सियोल, एपी। उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने लगातार मिसाइलों का परीक्षण करके हथियारों की दौड़ तेज कर दी है। उत्तर कोरिया ने बुधवार को जिन दो बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया है, उन्हें पहली बार ट्रेन को लांच पैड बनाकर दागा गया। इससे पूरी दुनिया में चिंता बढ़ गई है। उत्तर कोरिया ने कहा है कि उसके देश में ट्रेनों का नेटवर्क काफी मजबूत है। इन मिसाइलों के देश में कहीं भी ले जाने और ट्रेन से ही दागने की तकनीक से उनकी मारक क्षमता बढ़ेगी।

कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी (केसीएनए) के अनुसार मिसाइलों का परीक्षण रेलवे की मिसाइल रेजीमेंट के युद्धाभ्यास के दौरान किया गया है। अब इन मिसाइलों को आसानी से मध्य क्षेत्र की पहाड़ियों तक ले जाया जा सकेगा।

सरकारी मीडिया ने बताया कि दोनों मिसाइलों के प्रक्षेपण को घने जंगल में बनी पटरी पर खड़ी एक ट्रेन से दागा गया। मिसाइलों के दागते ही नारंगी रंग लपटों को देखा गया।

ट्रेन से मिसाइल दागने की तकनीक विकसित करने से माना जा रहा है कि उत्तर कोरिया मिसाइल तकनीक में आगे बढ़ने के लिए नए-नए प्रयोग कर रहा है। उत्तर कोरिया ने अक्टूबर 2019 में मिसाइल परीक्षण किया था। उसके बाद से क्षेत्र में शांति बनी हुई थी।

उत्तर कोरिया के बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण के कुछ घंटों बाद ही दक्षिण कोरिया ने भी पनडुब्बी से पानी के अंदर मिसाइल का परीक्षण किया। कोरिया प्रायद्वीप में एक बार फिर हथियारों की दौड़ तेज हो रही है।

रायटर के अनुसार उत्तर कोरिया के मार्शल और पोलित ब्यूरो की प्रेसीडियम के सदस्य पाक जोंग चोन ने कहा है कि ट्रेन से मिसाइल दागने की तकनीक से उन्हें दुश्मनों की धमकी का करारा जवाब देने में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें : अफगानिस्तान को लेकर संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी प्रमुख की चेतावनी, जल्द खड़ा हो सकता है मानवीय संकट

यह भी पढ़ें : अफगान मामले में आलोचना पर बौखलाया पाकिस्तान, बोला- अमेरिका ने 'किराए की बंदूक' की तरह किया इस्तेमाल

Edited By: Neel Rajput