सेंटजांस (एंटीगुआ), एएनआइ। एंटीगुआ और बारबुडा के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन ने मंगलवार को कहा कि उन्हें ऐसे किसी पुख्ता सुबूत की जानकारी नहीं है कि भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी को अगवा कर डोमिनिका ले जाया गया।

पीएम ब्राउन संसद में इस मामले में सांसदों के सवालों जवाब दे रहे थे। एक सवाल के जवाब उन्होंने कहा कि उन्हें क्या उन्हें या राष्ट्रीय सुरक्षा मंत्री या किसी अन्य जांच निकाय को ऐसा कोई सुबूत नहीं मिला कि मेहुल चोकसी को उसकी मर्जी के बिना गलत तरीकों से डोमिनिका ले जाया गया। ब्राउन ने कहा कि इस सिलसिले में मुझे सुबूतों की जानकारी नहीं है। हालांकि कुछ मीडिया रिपोर्ट में इस तरह का दावा किया जा रहा है कि मेहुल चोकसी को अगवा कर डोमिनिका ले जाया गया।

उल्लेखनीय है चोकसी 23 मई को डिनर के लिए बाहर जाने के बाद एंटीगुआ से लापता हो गया था। उसे कुछ दिन बाद डोमिनिका में पकड़ा गया। प्रत्यर्पण से बचने के संभावित प्रयास में एंटीगुआ और बारबुडा से कथित रूप से भागने के बाद डोमिनिका में पुलिस ने उस पर अवैध प्रवेश का आरोप लगाया था। इस मामले की सुनवाई के लिए मेहुल चोकसी 14 जून को अदालत में पेश होने में विफल रहा। अब इस मामले की सुनवाई 25 जून को होगी।

वहीं, एंटीगुआ की संसद में विपक्षी पार्टियों में से एक यूनाइटेड प्रोग्रेसिव पार्टी (UPP) के नेता हेरोल्ड लोवेल ने कहा था कि मेहुल चोकसी का अपहरण अंतरराष्ट्रीय अपराध है जिसकी वजह से एंटीगुआ एवं बरबुडा को शर्मिदगी उठानी पड़ी है।

बता दें कि 62 वर्षीय भगोड़ा चोकसी 2018 में पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के मामले में भारत में वांछित है।

Edited By: Nitin Arora