ब्रसेल्स, एजेंसी । नाटो ने ईरानी जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या के मद्देनजर इराकी सेना में सैनिकों के लिए एक प्रशिक्षण कार्यक्रम को फ‍िलहाल स्‍थगित कर दिया है। गठबंणधन सेना के प्रवक्‍ता ने शनिवार को यह जानकारी दी। सैन्य गठबंधन ने शनिवार को अपने एक बयान में कहा कि अपने कर्मियों की सुरक्षा उनके लिए सर्वोपरि है। नाटो के प्रवक्ता डायलन व्हाइट ने एक बयान में कहा कि हम आवश्यक सावधानी बरत रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि नाटो का मिशन जारी है, लेकिन प्रशिक्षण गतिविधियां अस्थायी रूप से निलंबित हैं।

इस बीच इराक की राजधानी बगदाद में बीती रात अमेरिकी ठिकानों पर रॉकेट से हमले किए गए। राष्ट्रपति ट्रंप ने इस हमले पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए ईरान को चेतावनी जारी की है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक ट्वीट कर लिखा, 'उन्होंने हम पर हमला किया और हमने भी इसका जवाब दिया। अगर वे हम पर दोबारा हमला करते हैं, जो कि मैं उन्हें सलाह देता हूं कि वे ऐसा ना करें तो हम उन्हें ऐसा जवाब देंगे जैसा उन्होंने पहले कभी नहीं देखा होगा।' 

बता दें, अमेरिकी और ईरान के बीच तनाव लगातार बढ़ता ही जा रहा है। शनिवार रातबगदाद के बेहद सुरक्षित इलाके ग्रीन जोन और अल-बलाद एयरबेस पर रॉकेट और मोर्टार हमले हुए। अभी यह स्पष्ट नहीं है कि हमला किसने किया है। माना जा रहा है कि अमेरिकी ठिकानों पर ये हमला ईरान के टॉप कमांडर कासिम सुलेमानी की ड्रोन हमले में मौत के बाद ईरान ने पलटवार करते हुए इन हमलों को अंजाम दिया है। हमलों में पांच लोगों के घायल होने की खबर है।सुरक्षा व्यवस्था से जुड़े सूत्रों का कहना है कि ग्रीन जोन में दो मोर्टार और एयरबेस पर दो रॉकेट दागे गए। ग्रीन जोन बगदाद का बेहद सुरक्षित इलाका है, जहां अमेरिकी दूतावास स्थित है।

 यह भी पढ़ें: जानिए आखिर अमेरिका ने ईरान में हमला करने के लिए क्यों चुनी सिर्फ 52 जगहें

Posted By: Ramesh Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस