कोलंबो, एपी। मालदीव में राष्ट्रपति चुनाव स्वतंत्र और निष्पक्ष होने की अमेरिका की आशंका को हिंद महासागर स्थित राष्ट्र ने खारिज किया है। 23 सितंबर को होने वाले इस चुनाव के सिलसिले में अमेरिका ने कहा है कि अगर इसमें गड़बड़ी हुई तो मालदीव प्रतिबंध झेलने के लिए तैयार रहे। उल्लेखनीय है कि मालदीव में चुनी हुई मुहम्मद नशीद की सरकार को हटाकर यामीन अब्दुल गय्यूम ने सत्ता पर कब्जा किया था। वह पूरी तरह से चीन के प्रभाव में काम कर रहे हैं।

मालदीव में ज्यादातर बड़े राजनीतिक नेता जेल में हैं या निर्वासित जीवन व्यतीत कर रहे हैं। अमेरिका की ओर से यह चेतावनी मालदीव में विपक्ष के चुनाव में गड़बड़ी की आशंका जताने के बाद आई।
विपक्ष की ओर से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार इब्राहीम मुहम्मद सालेह ने सरकार द्वारा चुनाव में गड़बड़ी किए जाने की आशंका जताई है। सालेह पूर्व राष्ट्रपति मुहम्मद नशीद की पार्टी के नेता हैं। वर्तमान सरकार ने नशीद पर मुकदमा चलाकर उन्हें 13 साल कैद की सजा और चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य घोषित कर दिया है। नशीद इस समय श्रीलंका में निर्वासित जीवन व्यतीत कर रहे हैं।

ट्रंप प्रशासन ने गुरुवार को मालदीव को चेतावनी दी थी कि चुनाव के निष्पक्ष न होने पर उसके खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है। जवाब में मालदीव ने कहा है कि यह धमकी देने जैसा रवैया है। इस तरह से एक संप्रभु राष्ट्र की लोकतांत्रिक प्रक्रिया को प्रभावित करने की कोशिश की जा रही है।
मालदीव की सरकार ने अमेरिका और अन्य देशों से अपील की है कि वे देश के लोगों को 23 सितंबर के चुनाव में पांच साल के लिए सरकार चुनने का मौका दें।

 

Posted By: Arun Kumar Singh