कुआलालम्पुर, एजेंसी। मलेशिया के मानव संसाधन विकास मंत्री एम. कुलसेगरन ने जाकिर नाइक को भारत को सौपने की मांग की है। कुलसेगरन ने कहा कि नाइक यहां सामुदायिक घृणा फैलाने की साजिश रच रहा है। वो जो कर रहा उससे नहीं लगता कि वह मलेशिया में रहने का हकदार है।

कुलसेगरन ने ये भी कहा कि वह एक भगोड़ा है। भारत में उस पर गंभीर आरोप हैं। उसे मलेशिया का इतिहास के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है। ऐसे में उसे भारत को सौंप देना चाहिए। वहां वो अपने ऊपर लगे आरोपों का सामना करेगा। गौरतलब है कि भारत से भागने के बाद जाकिर नाइक पिछले तीन साल से मलेशिया में रह रहा है। जाकिर पर मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद को बढ़ावा देने के आरोप हैं। 

बता दें कि मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद पहले नाइक के प्रत्यर्पण से इनकार कर चुके हैं, लेकिन अब इस इस्लामी धर्मगुरू का विरोध तेज हो गया है। यही वजह है कि कैबिनेट की अगली बैठक के दौरान इस मुद्दे को उठाया जा सकता है। 

कुलसेगरन ने कहा कि जाकिर जैसे लोग हमारे विविधता वाली संस्कृति में रहने के हकदार नहीं हैं। उसको स्थायी नागरिकता किसी भी शर्त पर नहीं दी जानी चाहिए। नाइक ने खुद पर लगे आरोपों को गलत बताया है। उसने कहा कि उसपर लगाए जा रहे इस तरह के आरोप राजनीति से प्रेरित हैं।

दूसरी और मलेशियाई न्यूज एजेंसी ने पीएम महातिर मोहम्मद का बयान जारी किया। पीएम ने इसमें कहा है कि जाकिर को भारत को नहीं सौंपा जा सकता। वहां उसकी जान को खतरा हो सकता है। अगर कोई दूसरा देश उसको शरण देना चाहता है तो हम उसे वहां भेजने को तैयार हैं।

बता दें कि हाल ही में जाकिर ने अपने एक बयान में कहा था कि मलेशिया में रह रहे भारतीय महातिर मोहम्मद से ज्यादा नरेंद्र मोदी के प्रति वफादार हैं। इस बयान को लेकर भी कुलसेगरन ने सवाल उठाए।  

 

Posted By: Tanisk