लंगकावी (मलेशिया), रायटर। राजनीतिक तनाव के चलते भारत ने मलेशिया से पॉम तेल के आयात का बहिष्कार करने का फैसला किया है। इस बारे में लाचारी जताते हुए मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मुहम्मद (94) ने सोमवार को कहा, 'जवाबी कार्रवाई करने के लिए हम बहुत छोटे हैं। इससे उबरने के लिए हमें नए रास्ते और तरीके खोजने होंगे।'

 भारत ने मलेशिया से पॉम तेल का आयात पर लगाई रोक

भारत दुनिया में खाद्य तेल का सबसे बड़ा खरीददार है। महातिर द्वारा घरेलू राजनीति पर निशाना साधने के बाद भारत ने इस महीने मलेशिया से पॉम तेल का आयात रोक दिया गया था। बीते 11 सालों में मलेशिया के पॉम ऑयल की बेंचमार्क कीमतों में सबसे बड़ी गिरावट दर्ज की गई। मलेशिया पॉम तेल का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है और भारत का सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है, लेकिन वाणिज्य व उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने गुरुवार को स्पष्ट किया कि रिफाइंड पाम ऑयल के आयात पर प्रतिबंध का फैसला पूरी तरह घरेलू कारोबारियों के हितों को देखते हुए लिया गया है। उधर, मलेशिया की सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि दावोस में व‌र्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (डब्ल्यूईएफ) की सालाना बैठक के मौके पर दोनों देशों के वाणिज्य मंत्रियों की मुलाकात संभव है। 

सीएए और कश्‍मीर को लेकर की थी भारत की आलोचना 

मुस्लिम बहुल मलेशिया के प्रधानमंत्री ने भारत के नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) की आलोचना की थी और कश्मीर पर चढ़ाई करने का आरोप लगाया था, लेकिन इतना होने के बावजूद महातिर ने सोमवार को भी सीएए को लेकर भारत की आलोचना की और इसे बेहद अनुचित बताया।

जाकिर नाइक को लेकर मलेशिया से नाराज है भारत

विवादित इस्लामिक धर्म प्रचारक जाकिर नाइक का स्थायी निवासी का दर्जा वापस लेने से इन्कार को लेकर भी भारत मलेशिया से नाराज है। भारत में भड़काऊ भाषणों और मनी लांड्रिंग मामलों का आरोपित जाकिर नाइक करीब तीन साल से मलेशिया में रह रहा है। महातिर का कहना है कि अगर भारत सरकार निष्पक्ष मुकदमे की गारंटी दे तो भी नाइक को विजिलेंस कार्रवाई का खतरा है। उन्होंने कहा, 'अगर हम उसके लिए कोई जगह तलाश सके तो हम उसे बाहर भेज देंगे।'

 

Posted By: Arun Kumar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस