गाजा (आईएएनएस)। इजरायल के लड़ाकू विमानों ने गाजा पट्टी स्थित अल कासम की मिलिट्री पोस्‍ट पर जबरदस्‍त बमबारी की है। ये पोस्‍ट इस्‍लामिक हमास मूवमेंट के आर्म्‍ड विंग से जुड़ी हुई हैं। फलस्‍तीन के सुरक्षा सूत्रों ने इसकी जानकारी दी है। इजरायली मीडिया ने बताया है कि गुरुवार को फलस्‍तीन के हमास ने दक्षिणी इजरायल की तरफ विस्‍फोटक बैलून लॉन्‍च किए थे, जिसके बाद इजरायल ने फलस्‍तीन पर हवाई हमले को अंजाम दिया था। शिन्‍हुआ एजेंसी के मुताबिक लगातार तीसरे दिन इस तरह के हमले किए गए हैं। आपको बता दें कि 21 मई को ही दोनों देशों के बीच 11 दिनों तक हुए हमलों के बाद सीजफायर हुआ था।

फलस्‍तीनी सूत्रों और चश्‍मदीदों ने बताया है कि उन्‍होंने उत्‍तरी और दक्षिणी गाजा पट्टी में कई बार जबरदस्‍त धमाकों की आवाजें सुनी हैं जो हवाई हमलों का नतीजा थीं। इनका ये भी कहना है कि इन हमलों की वजह से कई जगहों पर जबरदस्‍त नुकसान पहुंचा और कई जगहों पर मिलिट्री पोस्‍ट तबाह हो गई है। हालांकि इन हमलों में किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है। इजरायली मीडिया के मुताबिक फलस्‍तीन की तरफ से छोड़े गए बैलून बोर्डर के नजदीक रिहायशी इलाकों को निशाना बनाकर लॉन्‍च किए गए थे। रिपोर्ट के मुताबिक पूर्वी येरूशलम में इजरायली दक्षिणपंथियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी हुए हैं। विरोध करने वालों ने इनके खिलाफ फ्लैग मार्च निकाला है।

इजरायली आर्मी का कहना है कि बुधवार को इजरायल की तरफ से सीजफायर के बाद पहला हवाई हमला गाजा पर किया गया था। इजरायली हमलों में हमास से जुड़े सैन्‍य ठिकानों को निशाना बनाया गया था, जो दक्षिण गाजा पट्टी के खान यूनिस शहर में हैं। इजरायल ने फलस्‍तीन स्थित हमास संगठन को चेतावनी दी है कि यदि उसने दोबारा कोई गलती की तो उसको इसके दुष्‍परिणाम भी झेलने होंगे। मंगलवार को पूर्वी येरूशलम में इजरायल के समर्थन में हजारों लोगों ने जुलूस निकाला था। इन लोगों के पास इजरायली झंडे थे और ये लोग लगातार इजरायल के समर्थन में नारेबाजी भी कर रहे थे। ये लोग डेथ ऑफ अरब के भी नारे लगा रहे थे।

Edited By: Kamal Verma