काबुल, एएनआइ। अफगानिस्तान में आईएसआईएस खुरासान शाखा के लिए खुफिया विभाग के प्रमुख के रूप में सक्रिय पाकिस्तानी मूल के आतंकवादी असदुल्लाह ओरकजई (Assadullah Orakzai) को शनिवार को अफगान सुरक्षा बलों द्वारा मार दिया गया है। राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशालय (National Directorate of Security- NDS) द्वारा इसकी पुष्टि कर दी गई है।

एनडीएस ने कहा कि असदुल्लाह ओरकजई, एक पाकिस्तानी नागरिक था। उसे नंगरहार प्रांत के केंद्र जलालाबाद शहर के पास एक ऑपरेशन के दौरान मारा गया। वह दहेश (आईएस) की खुरासान शाखा के लिए खुफिया प्रमुख के तौर पर काम कर रहा था।

एक बयान में कहा गया है कि राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशालय की विशेष इकाइयों ने लक्षित कार्रवाई के दौरान पाकिस्तान की अखेल ओरकजई एजेंसी के मूल निवासी असदुल्लाह ओरकजई के रूप में जाने जाने वाले जियाउर्रहमान को मार दिया है। मई में, अफगान सुरक्षा बलों ने आईएसआईएस के कमांडर जिया-उल-हक, जिसे अबू उमर खोरासानी के रूप में जाना जाता था, को दो अन्य दहेश नेताओं के साथ गिरफ्तार किया था।

अफगानिस्तान में 6,000 से 6,500 पाकिस्तानी आतंकी मौजूद : UN

कुछ समय पहले संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में खुलासा किया गया था कि पाकिस्तान के करीब छह से साढ़े छह हजार आतंकी अफगानिस्तान में सक्रिय हैं। इनमें से ज्‍यादातर का संबंध तहरीक-ए-तालिबान (Tehrek-E-Taliban) पाकिस्तान से है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि इतनी बड़ी तादाद में आतंकियों की मौजूदगी दोनों देशों के लिए खतरा है। रिपोर्ट में कहा गया कि अल-कायदा (AQIS) तालिबान के साथ अफगानिस्तान के निमरूज, हेलमंद और कंधार प्रांतों से काम करता है। एक्यूआईएस का मौजूदा सरगना ओसामा महमूद है। इसने आसिम उमर के मारे जाने के बाद उसकी जगह ली है।

दिल्ली, जम्मू-कश्मीर और अयोध्या में हो सकते हैं आतंकी हमले

पाकिस्तानी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा व जैश-ए-मुहम्मद के आतंकी राम मंदिर शिलान्यास से पहले जम्मू-कश्मीर, दिल्ली और अयोध्या में हमले कर सकते हैं। पाकिस्तानी सुरक्षा एजेंसी आइएसआइ इसकी साजिश रच रही है। खुफिया एजेंसी रॉ ने इस संबंध में सुरक्षा एजेंसियों को अलर्ट जारी कर तैयार रहने को कहा है।

Posted By: Neel Rajput

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस