नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। आतंकी संगठन ISIS एक बार फिर से सक्रिय हो रहा है। अब इस संगठन के टारगेट पर ऐसे देश हैं जहां पर लंबे समय से किसी तरह की आतंकी गतिविधि नहीं हुई। ऐसे शांतप्रिय देशों को अब ISIS(आईएसआईएस) निशाना बना रहा है। ऐसे देशों में ISIS अपने कैंप में प्रशिक्षित किए गए आतंकियों को भेज रहा है और वहां के अमन चैन को खत्म कर दहशत फैलाने का काम कर रहा है।

बीते कुछ महीनों में इंटेलीजेंस एजेंसियों के पास भी ऐसे इनपुट आए हैं जिससे इस बात की पुष्टि हुई है। इस तरह की खुफिया सूचना मिलने के बाद अब तमाम शांतिप्रिय देशों में बेचैनी है वो अपने यहां की शांति को बनाए रखने के लिए इस तरह की गतिविधियों पर रोक लगाने के लिए काम कर रहे हैं। रविवार को फिलीपींस में हुए मानव बम विस्फोट के बाद एक बार फिर से इस तरह की बातों को पूरा बल मिल गया है।

मुस्लिम महिला के कपड़े पहनकर किया विस्फोट 

अधिकारियों ने कहा कि एक आत्मघाती हमलावर ने रविवार को एक पारंपरिक मुस्लिम महिला के कपड़े पहने उसके बाद दक्षिणी फिलीपींस में जोलो द्वीप के एक सैन्य शिविर के बाहर बम विस्फोट करने के बाद मर गया, इस विस्फोट में उसकी खुद तो मौत हो गई लेकिन किसी अन्य के हताहत होने की सूचना नहीं है। फिलीपींस में आत्मघाती हमले अब तक बहुत कभी नहीं हुए थे लेकिन जुलाई 2018 से यहां पर इस तरह के अब तक 4 हमले हो चुके हैं। आईएसआईएस ने पिछले तीन आत्मघाती हमलों की जिम्मेदारी भी ले ली है। 

हमले के बाद सैन्य बयान के अनुसार रविवार को जिस व्यक्ति ने मुस्लिम महिला के कपड़े पहनकर हमला किया वो पूरी तरह से विदेशी लग रहा था। अधिकारियों ने हमलावर के लिंग की पुष्टि नहीं की थी। ISIS का दावा है कि फिलीपींस के बाजार में उसने जो विस्फोट कराएं है उसमें सात लोग घायल हुए। अन्य किसी भी समूह ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। सबसे बड़ा मुस्लिम विद्रोही समूह, मोरो इस्लामिक लिबरेशन फ्रंट, ने अपने हथियार रखना शुरू कर दिया। इस तरह के विस्फोटों से शांति भंग हो रही है। जिहादी समूह अबू सय्यफ़ जैसे अन्य चरम गुटों ने यहां घातक हमलों को जारी रखा है। 

फिलीपींस में दहशत फैला रहा ISIS

आतंकवादियों को फिलीपींस में हमले करने की बहुत संभावना है। ब्रिटेन काउंटर टेररिज्म पुलिसिंग में विदेश में सुरक्षित रहने और आतंकवादी हमले की स्थिति में क्या करना है, इसके बारे में वो जानकारी भी दे रहे हैं और इनसे कैसे बचाव किया जा सकता है उसके बारे में लोगों को जागरुक भी कर रहे हैं। आतंकवादी समूह हमलों की योजना बनाते रहते हैं। देश और कहीं भी, कभी भी राजधानी मनीला में और विदेशियों द्वारा देखे जाने वाले स्थानों, जैसे हवाई अड्डों, शॉपिंग मॉल, सार्वजनिक परिवहन इलाके में विस्फोट कर देते हैं। ये आतंकी संगठन मेट्रो स्टेशनों और पूजा स्थलों को भी निशाना बना रहे हैं जहां पर एक समय में अधिक से अधिक लोग जमा होते हैं। इन जगहों पर आतंकी संगठन तात्कालिक विस्फोटक उपकरणों और छोटे हथियारों का उपयोग करके कर रहे हैं।

इन-इन तारीखों पर हुए आतंकी हमले

- 27 जनवरी 2019 को, सुलु प्रांत के जोलो द्वीप पर एक रोमन कैथोलिक कैथेड्रल में बम हमलों के परिणामस्वरूप कम से कम 27 लोग मारे गए और कई अन्य घायल हो गए।

- 31 दिसंबर 2018 को कोताबेटो सिटी में साउथ सीज़ शॉपिंग मॉल के प्रवेश द्वार पर एक IED में विस्फोट हो गया। स्थानीय अधिकारियों ने कम से कम 2 मृतकों की पुष्टि की है और कई घायल हैं। एक अन्य IED को उसी शॉपिंग मॉल में पाया गया जहां अधिकारियों ने एक नियंत्रित विस्फोट किया। FCO कॉटैटो सिटी और मिंडानाओ की अधिकांश यात्रा के खिलाफ सलाह देना जारी रखता है।

- 31 जुलाई 2018 को पश्चिमी मिंडानाओ के बेसिलन द्वीप पर स्थित लेमिटन सिटी के एक चेकपॉइंट पर एक आईईडी आधारित एक वाहन में विस्फोट हो गया, जिससे कई जानलेवा हमले हुए।

- मनीला के क्वियापो क्षेत्र में 28 अप्रैल और 6 मई 2017 को धमाका हुआ, जिससे जानलेवा हमले हुए। इन हमलों का मकसद अस्पष्ट है।

- 28 नवंबर 2016 को मनीला में अमेरिकी दूतावास के पास एक तात्कालिक विस्फोटक उपकरण पाया गया। डिवाइस को पुलिस द्वारा सुरक्षित बनाया गया था।

- 28 दिसंबर 2016 को हिलोंगोस, लेटे (विसे) में एक बॉक्सिंग मैच में विस्फोट 30 से अधिक लोग घायल हो गए।

फिलीपींस में एक्टिव हैं कई आतंकी संगठन

फिलीपींस में कई आतंकवादी समूह सक्रिय हैं जो एक खतरा बन रहे हैं। इन समूहों में शामिल हैं न्यू पीपुल्स आर्मी (NPA), अबू सय्यफ ग्रुप (ASG), जेमाह इस्लामिया (JI) और अन्य संबद्ध समूह। दो मुख्य विद्रोही समूहों के भीतर, मोरो नेशनल लिबरेशन फ्रंट (MNLF)और मोरो इस्लामिक लिबरेशन फ्रंट (एमआईएलएफ़) के तत्वों को सुरक्षा खतरा बना हुआ है।

हमलों का ज़िम्मेदार बेंग्समोरो इस्लामिक फ़्रीडम फ़ाइटर्स (बीआईएफएफ) का एक स्पैन्टर ग्रुप ऑफ़ द एमएम भी है। पूरे फिलीपींस में ग्रामीण क्षेत्रों में भी मिलिटेंट समूह काम करते हैं। सुरक्षा बलों और आतंकवादी समूहों के बीच सशस्त्र झड़प बिना किसी चेतावनी के किसी भी समय हो सकती है। पिछले झड़पों में पर्यटकों को चोटें आई हैं। 

सुलु और सेलेब्स सागर को नेविगेट कर रहे हों, तब सतर्कता बरतें

वाणिज्यिक शिपिंग कंपनियों को सलाह दी गई है कि जब वे सुलु और सेलेब्स सागर को नेविगेट कर रहे हों, तब सतर्कता अपनाएं। एशिया में जहाजों के खिलाफ समुद्री डकैती और सशस्त्र डकैती के संयोजन पर क्षेत्रीय सहयोग समझौता (आरसीएएपी) सभी जहाजों को उस क्षेत्र से पुन: मार्ग करने की सलाह देता है जहां संभव हो। मिंडानाओ, सुलु द्वीपसमूह, पलावन और सबा (मलेशिया) के बीच के क्षेत्र में सुलु सागर में ज्यादातर समुद्री घटनाएं होती हैं। मिंडानाओ में नागरिक ठिकानों पर हमला किया गया है और मिंडानाओ द्वीप समूह में हमलों का एक बड़ा खतरा बना हुआ है। दावो सिटी में एक बाजार पर बम हमले में 2 सितंबर 2016 को एक दर्जन से अधिक लोगों की मौत हो गई। उत्तरी कोताबातो के एलेओसन में एक विस्फोट में 29 दिसंबर 2016 को 6 लोग घायल हो गए।

आतंकवादी समूहों ने यात्री घाट और अन्य जहाजों पर हमला करने की धमकी दी है, खासकर मिंडानाओ से संचालित होने वाले। ब्रिटेन के हितों और ब्रिटिश नागरिकों के खिलाफ वैश्विक स्तर पर आतंकवादी हमले का एक बड़ा खतरा माना जाता है, इराक और सीरिया में संघर्ष से प्रेरित समूहों या व्यक्तियों से। आपको इस समय सतर्क रहना चाहिए।

अपहरण

अपहरण कहीं भी हो सकता है। आतंकवादी समूहों से जुड़े कई नए मामलों के साथ, 2015 के अंत से विदेशी नागरिकों के अपहरण में वृद्धि हुई है। विदेशी नागरिकों सहित कुछ बंधकों की हत्या कर दी गई है। (31 मई 2019 को एक डच नागरिक की हत्या कर दी गई थी)। यह संभावना है कि आतंकवादी समूह इस क्षेत्र में पश्चिमी नागरिकों के खिलाफ अपहरण की योजना बना रहे हैं। यह खतरा पूरे फिलीपींस में, जमीन और समुद्र दोनों पर फैला हुआ है लेकिन दक्षिणी फिलीपींस में विशेष रूप से तीव्र है। इसमें मिंडानाओ, सुलु द्वीपसमूह, पलावन, दक्षिण सेबू और मध्य विसयस क्षेत्र शामिल हैं इसमें सिक्कीजोर और डुमगुएटे शामिल हैं। समुद्र के तटवर्ती जल, गोता स्थलों, और अपतटीय क्षेत्रों में सुलु सागर और सेलेब्स सागर तक फैले हुए हैं।

विदेशियों को ग्रामीण, शहरी और तटीय क्षेत्रों में, निजी नावों पर, मारिनों और रिसॉर्ट्स में निशाना बनाया गया है। अपहरण का खतरा आतंकवादी गढ़ों तक सीमित नहीं है, अपहरण अवसरवादी हो सकते हैं। किडनैप समूहों ने पीड़ितों को दूसरे स्थान पर ले जाने से पहले फिलीपींस के एक क्षेत्र से विदेशी नागरिकों का अपहरण करने के लिए सहयोगियों के साथ काम करके अपनी पहुंच का विस्तार करने की मांग की है।

किसी भी जहाज को निशाना बना सकते आतंकी संगठन 

मई 2017 में, फिलिपींस के अधिकारियों ने बताया कि उन्हें विश्वसनीय जानकारी मिली है कि आतंकवादी समूह अबू सय्यफ सुलु सागर में द्वीपों के आसपास (फिलिपींस) और समुद्र / द्वीपों सहित द्वीपों के अपहरण का संचालन करने वाला हो सकता है। सबा (मलेशिया) का पूर्वी तट। क्षेत्र में नौकायन करने वाले किसी भी जहाज को निशाना बनाया जा सकता है। आपको इस समय यात्रा योजनाओं पर ध्यान देना चाहिए और विशेष रूप से सतर्क रहना चाहिए। 11 और 12 अप्रैल 2017 को, फिलीपीन के अधिकारियों ने इनाबंगा, बोहोल में भारी सशस्त्र व्यक्तियों के साथ टकराव किया, जिसके परिणामस्वरूप मृत्यु हो गई। यह जानकारी के जवाब में था कि एक समूह क्षेत्र में अपहरण का संचालन करने की योजना बना रहा था। वाणिज्यिक शिपिंग कंपनियों को उंचाई अपनाने की सलाह दी गई है।  

Posted By: Vinay Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस