तेहरान, एपी। इराक के कुर्द बहुल इलाके में आजादी के लिए सोमवार को होने वाले जनमत संग्रह से पूर्व ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड ने सीमा पर सैन्य अभ्यास किया है। इस सैन्य अभ्यास में हेलीकॉप्टरों और मिसाइलों का भी इस्तेमाल किया गया।

इराक में बसे कुर्द लंबे समय से आजादी की मांग कर रहे हैं। सद्दाम हुसैन के शासनकाल में उनकी इस मांग को बर्बर तरीके से रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल करके दबाया गया था। लेकिन हाल के वर्षो में आतंकी संगठन आइएस से लड़ाई के दौरान कुर्दो को हथियारबंद किया गया और सरकारी सेना के साथ उनका इस्तेमाल किया गया।

ईरान अमेरिका समर्थित कुर्दो को अपने खिलाफ मानता है। उसे भय है कि स्वतंत्र कुर्द राष्ट्र बनने पर ईरान को खतरा हो सकता है। वैसे इराक भी कुर्दो के इस जनमत संग्रह का विरोध कर रहा है। उसने इसे असंवैधानिक करार दिया है। क्षेत्र में तुर्की भी नहीं चाहता कि स्वतंत्र कुर्द राष्ट्र बने, क्योंकि वहां पर सरकार का कुर्दो के साथ लंबे समय से संघर्ष चल रहा है।

यह भी पढ़ें:  ईरान ने सफलतापूर्वक किया बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण

Posted By: Ravindra Pratap Sing

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस