दावोस (प्रेट्र)।  पिछले साल देश के कुल धन में 73 फीसदी का योगदान भारत की एक फीसद अमीरों की आबादी का था। आय में असमानता की यह चिंताजनक तस्वीर आज जारी किए गए एक सर्वे में सामने आई है। बाकि देश की लगभग आधी आबादी 67 करोड़ की जनसंख्या गरीब है। सर्वे में कहा गया है कि इनकी आय में मात्र एक फीसद की बढ़ोत्तरी हुई है। दावोस में सालाना विश्‍व आर्थिक मंच की शुरुआत के पहले इंटरनेशनल राइट्स ग्रुप ऑक्सफैम आवर्स के द्वारा यह सर्वे जारी किया गया है। सम्‍मेलन के लिए पीएम नरेंद्र मोदी रवाना हो चुके हैं।

WEF में होगी आय असामनता पर चर्चा 
सर्वे के अनुसार, दुनियाभर में यह स्थिति काफी भयावह है। दुनियाभर में संकलित कुल आय में 82 फीसद योगदान अमीरों का है जबकि 3.7 अरब की आबादी का इसमें कोई हाथ नहीं है। वार्षिक ऑक्सफैम सर्वे की यह रिपोर्ट अभी इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि दावोस में शुरु होने जा रहे वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में 'बढ़ती आय' और 'लिंग असामनता' पर चर्चा अहम माना जा रहा है। पिछले साल की रिपोर्ट में ये बात सामने आई थी कि भारत के एक फीसद अमीरों की आबादी देश की कुल धन का 58 फीसदी उत्पन्न करते हैं, जो वैश्विक स्तर पर 50 फीसदी से भी ज्यादा है। इस साल के रिपोर्ट भी ये दर्शाते हैं कि एक फीसद अमीरों की आबादी की आय पिछले साल से 20.9 लाख करोड़ से बढ़ोत्तरी हुई है।

'रिवॉर्ड वर्क नॉट वेल्थ' सर्वे ने कहा- हर 2 दिन में बन रहा एक अरबपति
'रिवॉर्ड वर्क नॉट वेल्थ' नाम से जारी सर्वे में कहा गया है कि किस तरह से वैश्विक अर्थव्यवस्था में अमीरों का ही योगदान है, जबकि सैकड़ों मिलियन की गरीब आबादी किसी तरह बस अपना जीवन यापन कर रही है। 2017 की रिपोर्ट में ये बात सामने आई थी कि हर दो दिन में एक अरबपति बन रहा है। 2010 से ही अरबपतियों का धन 13 फीसदी की दर से बढ़ा है। अध्ययन में कहा गया है कि भारत में अमीरों की आय के जितना धन कमाने में मिडिल क्लास के लोगों को 941 साल का समय लग सकता है।

CEOs के वेतन में 60 प्रतिशत कटौती का समर्थन
दावोस में आयोजित वर्ल्ड इकेनॉमिक फोरम में भाग लेने जा रहे पीएम मोदी से ऑक्सफैम इंडिया ने अपील की है कि वे भारत की अर्थव्यवस्था के लिए सभी को मौका दें ना कि सिर्फ कुछ भाग्यशाली लोगों को। इस कड़ी में देश में अधिक से अधिक नौकरियां पैदा करने की बात की गई। सर्वे ने अमेरिका, ब्रिटेन और भारत जैसे देशों में सीईओ के लिए वेतन में 60 प्रतिशत कटौती का भी समर्थन किया है। भारत के बारे में यह कहा गया है कि पिछले साल 17 नए अरबपति बने जिसके साथ ही इनकी संख्या बढ़कर 101 हो गई है।

अरबपतियों की बढ़ती संख्या असफल अर्थव्यवस्था का संकेत
कहा गया है कि भारतीय अरबपतियों की संपत्ति में 20.7 लाख करोड़ रुपये की बढ़ोत्तरी हुई है, जो किसी भी राज्य की शिक्षा बजट का 85 प्रतिशत धन है। ऑक्सफैम इंडिया के सीईओ निशा अग्रवाल ने कहा कि यह चिंताजनक है कि भारत में आर्थिक विकास का लाभ कुछ ही लोगों के हाथों में है है। अरबपति की संख्या में बढ़ोत्तरी एक संपन्न अर्थव्यवस्था का संकेत नहीं है, बल्कि यह असफल आर्थिक व्यवस्था का एक लक्षण है। उन्होंने कहा कि बढ़ता विभाजन लोकतंत्र को कमजोर करता है और भ्रष्टाचार को बढ़ावा देता है। उन्होंने यह भी बताया कि दस अरबपतियों में से 9 पुरुष है जो लैंगिक भेदभाव को भी दिखाता है। भारत में केवल चार महिला अरबपति है जिसमें से तीन को विरासत में मिली है। 

यह भी पढ़ें : दावोस के लिए रवाना हुए पीएम मोदी, जानिए- WEF में क्या होगा खास

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Srishti Verma