मॉन्ट द मार्सन, एएनआइ। भारतीय वायुसेना के वाइस चीफ एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया ने फ्रांस में लड़ाकू विमान राफेल( Rafale) में उड़ान भरी। राफेल में उड़ान को वाइस चीफ एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया ने बेहतरीन अनुभव बताया है। उन्होंने कहा, 'यह एक बहुत अच्छा अनुभव था।  यहां हमने राफेल से जुड़ी कई चीजें सीखी हैं, जैसे हम किस तरह राफेल का भारतीय वायुसेना में बेहतर उपयोग कर सकते हैं। इसके अलावा हम यह भी जानेंगे कि सुखोई-30 के साथ इसका संयोजन(Combination)किस तरह किया जा सकता है।'

वाइस चीफ एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया ने साथ ही कहा, 'भारतीय वायुसेना में टेक्नोलॉजी और हथियार के रूप में राफेल गेमचेंजर साबित होगा। आने वाले सालों में यह आक्रामक मिशन और युद्ध जैसी स्थितियों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।'

बता दें कि इसी महीने की शुरुआत में फ्रांस के राजदूत अलेक्जेंडर जीगलर ने कहा था कि भारत को पहला राफेल लड़ाकू विमान दो महीनों के अंदर सौंप दिया जाएगा और यह बिल्कुल समय पर मिलेगा। जीगलर ने बताया था कि भारतीय वायुसेना को सभी 36 राफेल लड़ाकू विमान अगले दो साल में सौंप दिए जाएंगे। उन्होंने कहा था, 'भारतीय वायु सेना को पहला राफेल लड़ाकू विमान अब से ठीक दो महीने में सौंप दिया जाएगा, मुझे लगता है यह सितंबर में होगा, बिल्कुल समय पर। वहीं, 36 विमान अगले दो साल में आएंगे।'

राफेल और सुखोई का मेल बरपाएगा दुश्मन पर कहर
भारतीय वायुसेना की राफेल और सुखोई 30 एमकेआइ की संयुक्त कार्रवाई की योजना सफल रही तो वह पाकिस्तान समेत सभी दुश्मन देशों पर युद्ध में कहर बरपाएगी। यह बात भारतीय वायुसेना के वाइस चीफ एयर मार्शल  आरकेएस भदौरिया ने फ्रांस में चल ररहे गरुड़ 6 युद्धाभ्यास के मौके पर कही थी।

वायुसेना उपाध्यक्ष ने कहा, 'राफेल और सुखोई-30 के एक साथ हमले के लिए तैयार होने पर पाकिस्तान 27 फरवरी जैसा जवाबी हमला करने से डरेगा।'बालाकोट पर भारतीय वायुसेना की बमबारी के अगले दिन पाकिस्तानी वायुसेना ने भारतीय सीमा में घुसकर जवाबी कार्रवाई की कोशिश की थी लेकिन वह असफल रही थी।

Posted By: Shashank Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप