नई दिल्ली, रॉयटर्स: भारत 50 करोड़ कोविड-19 घरेलू वैक्सीन आपूर्ति लक्ष्य को हासिल करने के बहुत करीब है। देश के स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को जानकारी दी है की, जुलाई के अंत तक देश को 50 करोड़ से अधिक कोरोना वैक्सीन इस्तेमाल के लिए भेज दी जाएंगी।

50करोड़ के लक्ष्य के करीब भारत

स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान जारी करते हुए बताया है की, जनवरी 2021 से 31 जुलाई 2021 के बीच कुल 51.60 करोड़ वैक्सीन सप्लाई करने की लक्ष्य निर्धारित किया गया था। साथ ही उन्होंने बताया की, हर महीने निर्धारित वक्त पर टीकों की सप्लाई की जाती है, इसलिए जुलाई के अंत तक 51.60 करोड़ टीके इस्तेमाल के लिए उपलब्ध कराए जाने का अर्थ यह नहीं है की, वो सभी डोज लगा दिए जाएं। अभी तक कुल 45.70 करोड़ वैक्सीन के डोज राज्यों को भेजे जा चुके हैं और कुछ ही दिनों में शेष बची वैक्सीन के डोज भी भेजे जाने की संभावना है।

टीकाकरण अभियान का महत्वपूर्ण पड़ाव

पिछले महीने देश की केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि, जुलाई के अंत तक करीब 51.60 करोड़ वैक्सीन के डोज देश में इस्तेमाल के लिए उपलब्ध करा दिए जाएंगे। भारत की करीब 94.40 करोड़ वयस्क आबादी के टीकाकरण अभियान का यह महत्वपूर्ण पड़ाव माना जा रहा है। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स द्वारा जारी की गई जानकारी के मुताबिक, जुलाई के अंत तक देश में उपलब्ध कराए गए, सभी डोज इस्तेमाल नहीं हो पाएगा। ऐसे करने के लिए प्रशासन को तीन गुना से अधिक दैनिक टीकाकरण करना होगा। यानी प्रतिदिन करीब 1.40 करोड़ टीकाकरण के लक्ष्य को हासिल करना होगा। बीती 21 जून को देश में रिकॉर्ड 92लाख लोगों का टीकाकरण हुआ था। उसके बाद से आंकड़ों में लगातार गिरावट दर्ज की गई है।

संक्रमण के आंकड़ों में गिरावट

भारत ने जनवरी के महीने से अब तक करीब 43.8 करोड़ वैक्सीन के डोज लगाए हैं। ये आंकड़ा चीन के बाद विश्व में सबसे अधिक है, लेकिन जनसंख्या के तुलना में कई देशों से कम है। सरकार की आंकड़ों के अनुसार, देश में 9.40 करोड़ लोगों को वैक्सीन की जरूरी दोनों खुराकें दी जा चुकी हैं। ये आंकड़ा देश की वयस्क आबादी का कुल 10फीसदी है। दुनिया के दूसरे सबसे अधिक आबादी वाले देश भारत में पिछले 24 घंटों के दौरान 29,689 नए कोरोनोवायरस संक्रमण के मामले दर्ज किए गए। जो 17 मार्च के बाद से सबसे कम दैनिक वृद्धि है, देश में अब तक कुल 3.14 करोड़ संक्रमण के मामले दर्ज हुए है। वहीं 4.20 लाख मौतों की पुष्टी हुई है।

Edited By: Amit Kumar