हांगकांग, रायटर। हांगकांग के आंदोलन में रविवार को नया अध्याय जुड़ गया। हजारों प्रदर्शनकारियों ने अमेरिकी राष्ट्रगान (The Star Spangled Banner) गाते हुए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मदद की मांग की। कहा कि उन्हें चीनी सत्ता से मुक्ति दिलाएं। इसके बाद पुलिस ने जब उन्हें रोका तो महानगर के कई इलाकों में टकराव शुरू हो गया।

अमेरिका ने चीन से हांगकांग के आंदोलन से निपटने में संयम की अपील की है। चीन ने इसे अपना आंतरिक मामले बताते हुए मध्यस्थता की किसी संभावना से इन्कार किया है। उसने अमेरिका और ब्रिटेन को हांगकांग की अशांति के लिए जिम्मेदार ठहराया है।

सड़कों पर आगजनी
हांगकांग में रविवार को आंदोलन की शुरुआत शांतिपूर्ण ढंग से हुई। धूप में छाता लगाए और हाथ में लोकतांत्रिक मांगों के कार्ड लिए युवा धीरे-धीरे आगे बढ़ते रहे। लेकिन कुछ देर बाद आंदोलन हिंसक हो उठा। इसके बाद बैरिकेडिंग और सड़क के किनारे की इमारतों की खिड़कियों की तोड़फोड़ शुरू हो गई। सड़कों पर आगजनी शुरू हो गई।

पुलिस ने हिंसक आंदोलनकारियों को रोकने के लिए जब बल प्रयोग किया तो जवाब में पथराव शुरू हो गया। टकराव का यह सिलसिला कई घंटे चला। इस दौरान युवा आंदोलनकारी रह-रहकर आजादी की मांग के लिए संघर्ष करने के नारे लगाते रहे।

कई आंदोलनकारी हुए गिरफ्तार
अमेरिकी वाणिज्य दूतावास के नजदीक पहुंचकर उन्होंने चीन को रोकने और हांगकांग को आजादी दिलाने के नारे लगाए। पुलिस ने कई आंदोलनकारियों को गिरफ्तार किया है। अमेरिकी रक्षा मंत्री मार्क एस्पर ने हांगकांग के आंदोलन से निपटने में चीन से संयम बरतने की अपील की। वह इन दिनों पेरिस की यात्रा पर हैं। अगस्त में राष्ट्रपति ट्रंप ने चीन को हांगकांग की समस्या मानवीय तरीके से सुलझाने की सलाह दी थी।

सन 1997 तक ब्रिटिश उपनिवेश रहा हांगकांग इस शर्त के साथ चीन को दिया गया था कि नागरिकों के लोकतांत्रिक अधिकार बने रहेंगे। चीन ने हांगकांग को स्वायत्तता दी। लेकिन धीरे नागरिक अधिकारों में धीरे-धीरे कटौती शुरू कर दी। इससे हांगकांग वासियों को लगने लगा कि एक दिन उनकी स्वायत्ता पूरी तरह खत्म हो जाएगी। इसी के बाद वहां लोकतंत्र की मांग को लेकर आंदोलन शुरू हुआ।

इसे भी पढ़ें: ट्रंप-तालिबान शांति वार्ता टूटी, भारत ने ली राहत की सांस, पाकिस्तान को लगा करारा झटका

इसे भी पढ़ें: Washington Post के खिलाफ अमेरिका में कश्मीरी पंडितों ने किया प्रदर्शन, जानें- क्या रही वजह

Posted By: Dhyanendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप