न्यूयॉर्क, एजेंसी। न्यूयॉर्क में एक मंदिर के सामने स्थित महात्मा गांधी की एक प्रतिमा को गिरा कर तोड़ दिया गया। ये हमला इस महीने स्मारक पर हुआ दूसरा हमला है। जिसके बाद इस मामले में एक स्थानीय स्वयंसेवी समूह (local volunteer watch group) ने इसके खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है।

मंगलवार की सुबह की यह घटना अमेरिका में ताजा घटना थी। पुलिस के हवाले से मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, छह लोगों ने श्री तुलसी मंदिर में एक हथौड़े से प्रतिमा को नष्ट कर दिया और उसके चारों ओर और सड़क पर नफरत भरे शब्द लिखे।

क्वींस डेली ईगल के अनुसार, प्रतिमा को पहले 3 अगस्त को तोड़ दिया गया था और उसे तोड़ दिया गया था। पुलिस ने 25-30 साल के बीच के पुरुषों का एक वीडियो जारी किया, जिन पर हमले में शामिल होने का संदेह है।

पुलिस के अनुसार, वे एक सफेद मर्सिडीज बेंज और एक गहरे रंग की कार, जो कि टोयोटा कैमरी हो सकती है, जिसे किराए के वाहन के रूप में इस्तेमाल किया गया, उसमें सवार होकर वहां से भाग निकले।

विधानसभा सदस्य जेनिफर राजकुमार, न्यूयॉर्क राज्य विधानमंडल के लिए चुने गए पहले हिंदू, ने गुरुवार को सीबीएस न्यूयॉर्क टीवी को बताया, ‘जब गांधी की प्रतिमा को तोड़ा गया था, जो वास्तव में हमारे सभी विश्वासों के विपरीत था और यह समुदाय के लिए ठीक नहीं है।’

मंदिर के संस्थापक पंडित महाराज ने न्यूयॉर्क पोस्ट को बताया, ‘गांधी शांति का प्रतिनिधित्व करते हैं और कोई आकर प्रतिमा को निशाना बनाकर तोड़फोड़ करेगा, यह बहुत दुखद है।’

इस बीच, वॉलंटियर वॉच ग्रुप, Cityline Ozone Park Civilian Patrol ने गुरुवार को ट्वीट किया कि उसके सदस्यों ने मंदिर के आस-पास अपनी उपस्थिति को बढ़ा दिया है।

उन्होंने एक ट्वीट में कहा, ‘हमने तुलसी मंदिर में अपनी उपस्थिति बढ़ा दी है और वहां पुलिस भी तैनात है।

पहले हमले के जवाब में, राजकुमार ने हमले की निंदा करने और पुलिस कार्रवाई का आह्वान करने के लिए हाउस फॉरेन अफेयर्स कमेटी के ग्रेगरी मीक्स सहित कई निर्वाचित अधिकारियों को इकट्ठा किया।

डेली ईगल द्वारा मीक्स के हवाले से कहा गया, हमारे समुदाय और राष्ट्र में घृणा के कृत्यों का कोई स्थान नहीं है और अपराधियों को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए। यह मंदिर साउथ रिचमंड पार्क में स्थित है, जो एक ऐसा क्षेत्र है जहां भारतीय मूल के कई लोग रहते हैं।

वामपंथियों और खालिस्तानियों ने पूरे अमेरिका में गांधी की प्रतिमाओं को हटाने के लिए निशाना बनाया है, जैसा कि न्यूयॉर्क शहर में एक अन्य प्रतिमा के मामले में भी किया गया था।

फरवरी 2020 में पुलिस की ज्यादतियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान, वाशिंगटन में गांधी मूर्ति पर व्यक्तिगत हमले किए और उस पर भारत विरोधी नारे लिखे गए। उस वर्ष दिसंबर में भारत में किसान आंदोलन के समर्थन में एक विरोध प्रदर्शन के दौरान खालिस्तान समर्थक तत्वों द्वारा इसे फिर से तोड़ दिया गया था।

एक अन्य घटना में, पिछले साल जनवरी में कैलिफोर्निया के डेविस में गांधी की एक प्रतिमा को काट दिया गया था और उसके पैर को भी अलग कर दिया गया था और उसका सिर आधा कर दिया गया था। वहीं, जून 2020 में भी इसी प्रतिमा को नारे लगाते हुए तोड़ दिया गया था। न्यूयॉर्क पोस्ट से बात करते हुए, राजकुमार ने कहा कि "हिंदू नफरत बढ़ रही है"।

रटगर्स यूनिवर्सिटी में नेटवर्क कॉन्टैगियन लैब की एक हालिया रिपोर्ट में कहा गया है कि हिंदू समुदाय के लिए अभद्र भाषा में वृद्धि के प्रमाण मिल रहे हैं और इसके लिए श्वेत वर्चस्ववादियों (White supremacists) को दोषी ठहराया।

हालांकि, पुलिस द्वारा जारी किए गए वीडियो में संदिग्धों की शक्ल सफेद नजर आ रही है।

इसके अलावा, महाराज ने स्थानीय समाचार आउटलेट क्यूएनएस को बताया कि, पहली बार ऐसा हुआ कि वह व्यक्ति स्पेनिश बोल रहा था। इस बार, वे हिंदी में बोल रहे थे।

राजकुमार ने क्यूएनएस से कहा, मैंने देश भर के सरकारी नेताओं से बात की है और सभी हिंदू विरोधी नफरत से निपटने के हमारे प्रयासों को तेज करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

Edited By: Versha Singh