बेरूत, एपी। लेबनान की राजधानी बेरूत में गुरुवार को शहर के एक बंदरगाह पर पिछले साल हुए बम धमाके की जांच कर रहे जज को हटाने की मांग कर रहे चरमपंथी संगठन हिज्बुल्लाह के समर्थकों व सैनिकों में संघर्ष हो गया। दोनों ओर से पिस्तौल व राइफल आदि घातक हथियारों से हुई गोलीबारी में 5 लोगों की मौत हो गई, जबकि कई घायल हो गए। संघर्ष में ग्रेनेड का भी इस्तेमाल हुआ।

बम धमाके की जांच करने वाले जज को हटाने की मांग कर रहे प्रदर्शनकारियों व सेना में गोलीबारी

एक अधिकारी ने मीडिया को बताया कि स्नाइपर इमारतों में छिपकर गोलियां दाग रहे थे। एक फ्रेंच स्कूल के पास चार गोले आ गिरे। इससे भयभीत छात्र स्कूल के केंद्रीय हाल में छिप गए और अपनी खिड़कियों खुला छोड़ दिया, ताकि कम से कम नुकसान हो। इस घटना ने वर्ष 1975-90 के दौरान चले गृहयुद्ध की याद दिला दी। प्रधानमंत्री नजीब मिकाती ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। पूरे इलाके में बड़ी संख्या में लेबनानी सैनिकों को तैनात कर दिया गया है।

उल्लेखनीय है कि चार अगस्त, 2020 को बेरूत के एक बंदरगाह के गोदाम में हुए धमाके में कम से कम 215 लोग मारे गए थे। घटना की जांच जज तारीक बिटार कर रहे हैं। हिज्बुल्लाह के समर्थक जज पर पक्षपात का आरोप लगाते हुए उन्हें हटाने की मांग कर रहे हैं।

Edited By: Arun Kumar Singh