सुवा, एएफपी। फिजी में तूफान के चेतावनी के चलते राहत शिविर खोल दिए गए हैं ताकि लोगों को यहां शिफ्ट किया जा सके। बता दें कि शुक्रवार को यहां तेज हवाओं की चेतावनी दी गई है। बता दें कि पिछले तीन हफ्तों से यहां तूफान के चलते लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। पुलिस ने बताया कि इसके चलते राहत शिविर बना दिए गए हैं। बता दें कि मौसम विभाग ने शुक्रवार को चक्रवात टिनो (Tino) आने की आशंका जताई है। इस सबके बीच गुरुवार को दो लोग एक नदी पार करने की कोशिश करने के चलते लापता हो गए हैं। इसके अलावा यहां के स्थानीय लोग शेल्टर्स में शिफ्ट होने की तैयारी में हैं तो वहीं बाहर से टूरिस्ट अपने रिसोर्ट छोड़कर हवाई सेवाएं दोबारा शुरू होने तक राजधानी सुवा पहुंच रहे हैं।

मौसम विभाग के मुताबिक फिजी के दूसरे सबसे बड़े द्वीप वानुआ लेवु से चलने की वजह से टिनो और ज्यादा खतरनाक होता जा रहा है। विभाग ने 130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाओं, भारी बारिश, तटीय बाढ़ और निचले इलाकों में भी बाढ़ की आशंका जताई है। लोग अब राहत शिविरों में शिफ्ट करने की तैयारी कर रहे हैं। निश्चल प्रसाद (Nischal Prasad) ने न्यूज एजेंसी एएफपी को बताया कि वो अपनी फैमिली के साथ जल्द ही राहत शिविर में शिफ्ट हो जाएंगे, बस वो तूफान के थमने का इंतेजार कर रहे हैं। 

उन्होंने आगे कहा कि मैंने दिसंबर में आए सराय (Sarai) चक्रवात में अपना घर खो दिया था और मेरा परिवार लगभग बेघर हो चुका है। यह मेरे लिए बहुत ही खतरनाक अनुभव था। एक पर्यटक इन्ना कोस्ट्रोमिना (Inna Kostromina) ने बताया कि वो भारी तूफान की चेतावनी के चलते अपना रिसोर्ट छोड़कर राजधानी सुवा में शिफ्ट हो गई थीं। मेरे ख्याल से हम लोग यहां ज्यादा सुरक्षित हैं।

पुलिस ने बताया कि एक व्यक्ति और लगभग 10 वर्षीय उसकी बेटी तैरकर नदी पार करने की कोशिश कर रहे थे लेकिन वो बाढ़ की तेज धाराओं में फंस गए। यह घटना गुरुवार की है।

जानकारी के लिए बता दें कि फिजी पर्यटकों के लिए घूमने की एक अच्छी जगह है, यहां गर्मियों में टूरिस्ट भारी संख्या में आते हैं। फिजी में पिछले तीन हफ्तों में तीसरी बार चक्रवात आया है। इससे पहले दिसंबर में आए सराय तूफान में दो लोगों की मौत हो गई थी और 2500 से ज्यादा लोग अपना घर खो बैठे थे जिस कारण उन्हें शेल्टर में भर्ती किया गया था। इसके अलावा और भी कई नुकसान फिजी को झेलने पड़े थे। वहीं अब टोंगा मुख्य द्वीप टोंगाटापू में टिनो के भीषण प्रकोप की आशंका है। इससे दो साल पहले टोंगाटापू में साइकलॉन गिना (Gina) के कारण 200 लोग बेघर हो गए थे।

Posted By: Neel Rajput

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस