काठमांडू, एएनआइ। Earthquake struck in Nepal  नेपाल में सुबह 10.30 बजे भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। इससे कई इलाकों में लोग डर कर घरों से बाहर निकल आए। भूकंप की तीव्रता रिक्‍टर पैमाने पर 4.1 मापी गई। अभी दो दिन पहले ही नेपाल में 4.3 तीव्रता के भूकंप के झटके दर्ज किए गए थे। इस भूकंप की वजह से लोग अपने घरों से बाहर निकल आए थे। हालांकि, इसमें किसी जानमाल का नुकसान नहीं हुआ था।

उल्‍लेखनीय है कि अप्रैल 2015 में नेपाल में आए 7.8 तीव्रता के भूकंप ने भारी तबाही मचाई थी। भारत के कुछ इलाकों में भी इसका प्रभाव देखा गया था। इस विनाशकारी भूकंप की बजह से नेपाल में करीब 9000 लोगों की मौत हुई थी जबकि करीब 22 हजार लोग घायल हुए थे। बता दें कि धरती की ऊपरी सतह सात टेक्टोनिक प्लेटों से मिल कर बनी है। वैज्ञानिकों का कहना है कि जहां भी ये प्लेटें एक-दूसरे से टकराती हैं, वहां पर भूकंप आने का खतरा होता है। 

बता दें कि गुलाम कश्मीर (POK) में मंगलवार को विनाशकारी भूकंप आया था जिसमें 38 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 452 लोग जख्‍मी हो गए थे। बताया जाता है कि इस आपदा में घायल विभिन्न अस्पतालों में करीब 100 लोग घायल हो गए हैं।  यह भूकंप 5.8 तीव्रता का था। इसका केंद्र मीरपुर शहर के समीप सतह से मात्र 10 किलोमीटर नीचे था। इसके झटके 8-10 सेकंड तक इस्लामाबाद, पेशावर, रावलपिंडी और लाहौर के प्रमुख शहरों सहित पूरे पाकिस्तान में महसूस किए गए थे। यही नहीं इन्‍हें नई दिल्ली समेत भारत के उत्तरी हिस्सों में भी महसूस किया गया था। 

यह भी पढ़ें- क्‍यों आ रहे बड़ी तीव्रता के भूकंप, नासा के वैज्ञानिकों ने किया सनसनीखेज खुलासा...

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस