मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

काठमांडू, एएनआइ। नेपाल के गृहमंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि देश में बाढ़ और भूस्‍खलन से मरने वालों की संख्‍या 111 हो गई है जबकि 67 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। बाढ़ के हादसों की चपेट में आने वाले 40 लोग अभी भी लापता बताए जाते हैं। देश के बाढ़ प्रभावित इलाकों में राहत और बचाव कार्य जारी हैं। गुलमी (Gulmi) जिले में सबसे ज्‍यादा 13 लोगों की मौत हो गई है।

देश के अन्‍य बाढ़ प्रभावित जिलों में सिंधुली (Sindhuli), धनुषा (Dhanusha), मकवानपुर (Makwanpur) और भोजपुर शामिल हैं। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, नेपाल में बाढ़ से एक अरब रुपये से ज्‍यादा का नुकसान हुआ है। जुलाई के पहले हफ्ते में शुरू हुई इस आपदा ने देश के कुल 64 जिलों को प्रभावित किया है। बता दें कि नेपाल और बिहार के कई इलाकों में मानसून की बारिश के साथ उत्तर बिहार, कोसी और सीमांचल में बाढ़ ने एक बार फिर से कहर बरपाना शुरू कर दिया है। राहत एवं बचाव के बीच बाढ़ के कारण मरने वालों का आंकड़ा 200 को पार कर गया है।

चीन ने भारत में बाढ़ राहत कार्यों में मदद के लिए उसको बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का उपग्रह से प्राप्‍त डेटा मुहैया कराया है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधन संगठन (Indian Space Research Organisation, ISRO) ने अंतरराष्ट्रीय आपदा राहत मदद मांगी थी जिसके बाद चीन की ओर से उपग्रह से प्राप्‍त डेटा उपलब्‍ध कराया गया है। भारत में चीन के राजदूत सुन वीदोंग (Chinese Ambassador to India Sun Weidong) ने यह जानकारी दी है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Krishna Bihari Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप