बीरा, एजेंसी। मोजाम्बिक में पिछले हफ्ते आए चक्रवात से अब तक 723 लोगों की मौत हो चुकी हैं। इस प्राकृतिक आपदा में अभी भी हजारों लोग अपने घरों की छतों पर मदद का इंतजार कर रहे हैं। 

बता दें कि दक्षिण अफ्रीका में चक्रवात ईदई ने पिछले सप्ताह 170 किमी प्रति घंटे की रफतार की हवाओं के साथ बीरा के मोजाम्बिक बंदरगाह से टकराकर शहर की ओर बढ़ते हुए वहां भारी तबाही मचाई। उस चक्रवात की चपेट में आने से मरने वालें लोगों की संख्या 242 से बढ़कर 417 हो गई, भूमि और पर्यावरण मंत्री सेलो कोर्रेया ने कहा फिहाल स्थिती पर काबू किया जा रहा है लेकिन हालात अभी भी चिंताजनक ही बने हुए हैं। 

चक्रवात की चपेट में आने से जिम्बाब्वे में 259 लोगों की मौत हो चुकी है। चक्रवात के चलते माल्विया में हुई भारी बारिश से 56 लोगों मारे गए हैं। इन सभी शहरों में राहत कार्य जारी है। मलबे के नीचे से लोगों को निकाला जा रहा है। सरकार और राहत एजेंसियों द्वारा पीड़ितों की मदद के साथ उन्हें खाना और पीने के पानी मुहैया करवाया जा रहा है। बीरा शहर के स्कूल में बने अस्थायी आश्रय में रह रही चार साल की बच्ची की मां ने कहा कि हमारा सारा खाना भीग गया था हमें समझ नहीं आ रहा था कि कहा जाए। इस आपदा में हमसे हमारा घर छीन गया। 

आपदा के उस मंजर को याद करते हुए 18 साल की लड़की ने कहा कि जब यह सब शुरू हुआ, तो लोग चिल्लाने लगे, तूफान में घर की छत उड़ गई और दीवारें ढहने लगी। 

"कुछ लोगों ने भागने की कोशिश की, कुछ लोगों ने घर पर रहने की कोशिश की।"मोजाम्बिक मंत्री ने कहा कि लगभग 1,500 लोगों को छतों और पेड़ों से तत्काल बचाव की आवश्यकता है। हेलीकॉप्टर और नावें लोगों की सुरक्षा के लिए ले जाई जा रही हैं।

संयुक्त राष्ट्र के मानवीय कार्यालय ने चेतावनी दी है कि अभी खतरा पूरी तरह से टला नहीं है और अधिक बाढ़ आने की संभावना है। भारी बारिश के चलते बीरा में बने डैम में काफी पानी भर रहा है जिससे उनके टूटने की स्थिति बनी हुई है। भारी बारिश और बाढ़ के चलते शहर में कुछ हैजा के मामले भी सामने आए है। आपदा में बचे लोग अपने भविष्य को लेकर चिंता कर रहे हैं। जबकि कई लोग नुकसान के शोक में है। 

Posted By: Atyagi.jimmc

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस