द हेग, एएफपी। तिब्बती आध्यात्मिक गुरु दलाईलामा ने रविवार को यहां कहा कि बौद्ध भिक्षुओं पर लग रहे यौन उत्पीड़न के आरोप उनके लिए नए नहीं हैं। चार दिवसीय नीदरलैंड्स यात्रा पर आए दलाईलामा ने कहा कि इस तरह की घटनाओं से वह तीन दशक पहले से वाकिफ हैं।

दुनियाभर के लाखों बौद्ध मतावलंबियों के श्रद्धेय दलाईलामा इस समय यूरोप की यात्रा पर हैं। इसी क्रम में वह नीदरलैंड्स पहुंचे हैं। उन्होंने यहां बौद्ध भिक्षुओं के यौन उत्पीड़न का शिकार हुए लोगों से भी मुलाकात की। ये लोग लंबे समय से दलाईलामा से मुलाकात की मांग कर रहे थे।

Related image

उनका कहना था कि हमने खुले दिल से बौद्ध धर्म की शरण ली थी, लेकिन उसी के नाम पर हमारे साथ दुष्कर्म हुआ। इसी के जवाब में 83 वर्षीय दलाईलामा ने कहा, 'मैं इन सब से पहले से वाकिफ हूं। करीब 25 साल पहले भी भारत के धर्मशाला में हुए पश्चिमी बौद्ध भिक्षुओं के सम्मेलन में यौन उत्पीड़न के आरोपों का मुद्दा उठा था। यौन उत्पीड़न जैसे अपराध को अंजाम देने वाले बुद्ध की शिक्षाओं की परवाह नहीं करते। ऐसे अपराधियों को खुद पर शर्म आनी चाहिए।'

यूरोप में उनके प्रतिनिधि का कहना है कि दलाईलामा हमेशा ही ऐसे कृत्यों की निंदा करते रहे हैं। इस साल नवंबर में धर्मशाला में तिब्बती धर्मगुरुओं की बैठक होनी है। दलाईलामा ने इस बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा करने की बात कही है।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप