क्‍वालालंपूर, एजेंसियां। दुनियाभर में पाबंदियों और टीकाकरण अभियान के बावजूद कोरोना के मामलों में कमी नहीं आ रही है। जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी की ओर से साझा कि‍ए गए आंकड़ों के मुताबिक दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 19.25 करोड़ को पार कर गया है जबकि महामारी से जान गंवाने वालों की संख्‍या 41.2 लाख को पार कर गई है। ब्राजील और इंडोनेशिया पर कोरोना की तगड़ी मार पड़ी है। यह आलम तब है जब दुनियाभर में कोविड-19 रोधी वैक्‍सीन की 3.74 अरब से ज्‍यादा डोज लगाई जा चुकी है।

ब्राजील में 1,412 लोगों की मौत

ब्राजील में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना से 1,412 लोगों की मौत हो गई है जबकि संक्रमण के 49,757 नए मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही ब्राजील में संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 1,95,23,711 हो गया है जबकि मृतकों की संख्या 5,47,016 पर पहुंच गई है। मौजूदा वक्‍त में कोरोना संक्रमितों की संख्या के मामले में ब्राजील दुनिया में अमेरिका और भारत के बाद तीसरे स्थान पर है। महामारी से मरने वालों की संख्‍या के लिहाज से यह देश अमेरिका के बाद दूसरे स्थान पर है।

इंडोनेशिया में हालात खराब

दुनिया की चौथी सबसे अधिक आबादी वाले देश इंडोनेशिया में हालात बेहद खराब हैं। समाचार एजेंसी एपी की रिपोर्ट के मुताबिक इंडोनेशिया में गुरुवार को महामारी से रिकॉर्ड 1,449 लोगों की मौत हो गई। मृतकों की संख्‍या के लिहाज से महामारी की शुरुआत के बाद से यह सबसे घातक दिन रहा। वहीं मलेशिया में लॉकडाउन जैसी पाबंदियों के बावजूद संक्रमण कम नहीं हुआ है। मलेशि‍या में पहली बार 13 जुलाई को 10 हजार से ज्‍यादा मामले दर्ज किए गए। संक्रमितों का यह दैनिक आंकड़ा अभी भी बना हुआ है। मलेशिया में टीकाकरण की दर काफी कम है।

ब्रिटेन में तेजी से बढ़ रहे केस

ब्रिटेन में टीके की दोनों डोज लेने के बावजूद कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। मौजूदा वक्‍त में ब्रिटेन में अभी औसतन लगभग 700 लोग अस्पतालों में भर्ती कराए जा रहे हैं। यह आलम तब है जब ब्रिटेन के 88 फीसद वयस्कों को पहली डोज और 69 फीसद को दोनों डोज लग चुकी हैं। वहीं दक्षिण कोरिया में महामारी के बढ़ते मामलों के देखते हुए राजधानी क्षेत्र में शारीरिक दूरी की पाबंदियों को दो हफ्ते के लिए बढ़ा दिया गया है। दक्षिण कोरिया में बीते 24 घंटों में कोरोना के 1,630 मामले दर्ज किए गए जिससे संक्रमितों का आंकड़ा 185,733 हो गया है।  

म्‍यांमार में बिगड़ रहे हालात

म्यांमार में हालात इतने खराब हैं कि यहां के सबसे बड़े शहर में कब्रिस्तान के कर्मी दिन रात काम कर रहे हैं। यही नहीं स्वास्थ्य प्रणालियां महामारी के चलते पैदा हुए हालात से निपटने के लिए जद्दोजहद कर रही हैं। सरकारें कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए नई पाबंदियां लगाने को लेकर असमंजस में हैं। टीकाकरण की प्रक्रिया फिलहाल धीमी है। समाचार एजेंसी एपी की रिपोर्ट के मुताबिक चीन की सिनोवेक वैक्‍सीन के डेल्टा वेरिएंट पर कम असरदार होने को लेकर भी चिंताएं बढ़ रही हैं। यही वजह है कि इंडोनेशिया और थाइलैंड अब बूस्टर डोज देने की योजना बना रहे हैं।