यरुशलम, आइएएनएस। इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) ने सीधे पीएम पद के लिए चुनाव कराने की मांग की है। नेतन्याहू की दक्षिणपंथी लिकुड पार्टी (Likud Party) और प्रमुख प्रतिद्वंद्वी बेनी गेंट्ज की मध्यमार्गी ब्लू एंड व्हाइट पार्टी गठबंधन बनाने में अब तक असमर्थ रही हैं। बुधवार रात तक अगर कोई गवर्निग काउंसिल नहीं बनी तो संसद को भंग करने के सिवा और कोई चारा नहीं बचेगा।

नेतन्याहू ने रविवार को यहां कहा कि इजरायल को उनके और गेंट्ज के बीच प्रधानमंत्री का सीधा चुनाव कराने के बारे में सोचना चाहिए। इससे संसद के लिए जहां नए चुनाव कराने की परेशानी से बचा जा सकेगा वहीं इस पर खर्च होने वाली बड़ी रकम की बचत होगी।

इजरायल में किसी भी पार्टी को नहीं मिला था बहुमत

नेतन्याहू ने कहा कि इजरायल के लोगों को तय करने दें कि देश का अगला प्रधानमंत्री कौन होगा। असाधारण परिस्थितियों के लिए असाधारण समाधान की आवश्यकता होती है। इजरायल में इस साल अप्रैल और सितंबर में हुए चुनावों में कोई भी पार्टी सरकार बनाने लायक वोट नहीं जुटा सकी। अगर बुधवार आधी रात तक गतिरोध खत्म नहीं होता है तो एक साल से कम समय में इजरायल में तीसरी बार चुनाव होंगे।

बेन्नी गैंट्ज भी नहीं जुटा पाए बहुमत

बता दें कि इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्‍याहू सरकार के गठन के मोर्चे पर असफल हो गए थे। इजरायल में गठबंधन की सरकार बनाने में विफल रहे प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के प्रतिद्वंदी और पूर्व आर्मी चीफ बेन्नी गैंट्ज के लिए सरकार बनाने का रास्‍ता प्रशस्‍त हुआ था। बेन्‍नी गैंट्ज के लिए भी बहुमत जुटाना उनके लिए भी बड़ी चुनौती साबित बना हुआ है।

गौरतलब है  इजरायल में अप्रैल में चुनाव हुए थे, जिसमें नेतन्याहू गठबंधन सरकार बनाने में कामयाब हुए थे। गठबंधन पार्टियों ने हालांकि बाद में उनसे अपना समर्थन वापस ले लिया था जिसके बाद देश में फिर चुनवा हुए थे।

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस