ढाका, आइएएनएस। मौजूदा दौर में जलवायु परिवर्तन एक प्रमुख मुद्दा बनकर उभर रहा है। कई देशों के राष्ट्राध्यक्ष इसको लेकर अपनी चिंता जता चुके हैं। इस बीच बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) में जलवायु परिवर्तन का मुद्दा उठाया है। शेख हसीना ने कहा है पृथ्वी को  परिवर्तन से होने वाले प्रतिकूल प्रभाव से बचाने के लिए पांच-सूत्रीय प्रस्ताव रखा और साथ ही कहा कि इसके लिए मजबूत आंतरिक सहयोग जरूरी है। उन्होंने कहा कि इस ग्रह और खुद को जलवायु परिवर्तन के प्रतिकूल प्रभाव से बचाने के लिए मेरा सुझाव है कि राजनीतिक नेतृत्व को मजबूत अंतरराष्ट्रीय सहयोग को प्रोत्साहित करना चाहिए।

बांग्लादेश की प्रमुख ने गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र संघ के 75वें सत्र के मौके पर जलवायु परिवर्तन के खिलाफ कार्रवाई पर एक उच्च-स्तरीय पुण्य राउंडटेबल पर एक वीडियो संदेश के माध्यम से पहला प्रस्ताव रखा। अपने दूसरे प्रस्ताव में शेख हसीना ने कहा कि वैश्विक तापमान में वृद्धि 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित होनी चाहिए और सभी पेरिस प्रावधानों को लागू किया जाना चाहिए। तीसरे प्रस्ताव में उन्होंने कहा कि वादा किया गया धन कमजोर देशों को उपलब्ध कराया जाना चाहिए। चौथे प्रस्ताव में हसीना ने कहा कि प्रदूषणकारी देशों को आवश्यक शमन उपायों के माध्यम से अपने एनडीसी (राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान) को बढ़ाना होगा।

अपने पांचवें और आखिरी प्रस्ताव में हसीना ने कहा कि स्वीकार करें कि जलवायु शरणार्थियों का पुनर्वास एक वैश्विक जिम्मेदारी है। जलवायु परिवर्तन के प्रभावों के बारे में अपनी चिंता के लिए संयुक्त राष्ट्र महासचिव को धन्यवाद देते हुए हसीना ने कहा कि बांग्लादेश के पास अनुकूलन और लचीलापन पर साझा करने के लिए कुछ विचार और अनुभव थे।

उन्होंने कहा कि हमने जलवायु परिवर्तन और जल प्रबंधन की चुनौतियों से निपटने के लिए बांग्लादेश डेल्टा योजना 2100 तैयार की है। हसीना ने आगे कहा कि उनकी सरकार ने देश में 4,291 चक्रवात और 523 बाढ़ आश्रयों का निर्माण किया है, जबकि 56,000 स्वयंसेवक किसी भी प्राकृतिक आपदा से पहले तैयारी की सुविधा के लिए उपलब्ध थे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021