ढाका, आइएएनएस। बांग्लादेश ने कोरोना महामारी के व्यापक प्रसार को रोकने के लिए देश में अबतक का सबसे गंभीर राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, बुधवार को बांग्लादेश में ईद अल-अधा के अवसर पर एक सप्ताह के लिए प्रतिबंधों में ढील देने के बाद अधिकारियों ने 23 जुलाई से 5 अगस्त तक सख्त लॉकडाउन का फैसला किया है।

बांग्लादेश की सड़कों पर एक बार फिर सेना के जवानों की वापसी हो गई है। इसके साथ ही कानून प्रवर्तन एजेंसियों के सदस्य लोगों की गतिविधियों को रोकने के लिए सड़कों पर लौट आए है। एक पुलिस अधिकारी ने शुक्रवार को राजधानी ढाका में कहा कि जब तक की बहुत जरूरी नहीं होगा, तब तक किसी को भी बाहर जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

लॉकडाउन प्रतिबंधों के तहत सार्वजनिक परिवहन सेवाओं को भी निलंबित कर दिया गया है। इस कारण राजधानी और उसके आसपास के अन्य शहरों में ईद पर अपने गृहनगर आने वाले हजारों लोग फंसे हुए हैं। राजधानी समेत देश भर के अन्य शहरों और कस्बों में मुख्य सड़कों पर लोगों की लंबी कतारें देखने को मिल रही है। राज्य के लोक प्रशासन मंत्री फरहाद हुसैन ने पत्रकारों से कहा कि पहले से और अधिक सख्त हुए इस लॉकडाउन के दौरान कपड़ा कारखाने बंद रहेंगे।

कोरोना महामारी में लगातार बढोतरी को देखते हुए बांग्लादेशी सरकार ने 1 जुलाई से लॉकडाउन लगाने का आदेश दिया था, लेकिन बाद में ईद के अवसर पर 15 से 22 जुलाई एक सप्ताह के लिए प्रतिबंधों में ढील दी गई थी। बांग्लादेश के स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय के अनुसार, देश में अब तक 11,46,564 कोरोना के मामलों की पुष्टि हुई है, जबकि 18,851 लोगों की जान जा चुकि है।

Edited By: Manish Pandey