अबुजा, आइएएनएस। दुनियाभर में एक ओर कोरोना महामारी की दूसरी लहर कहर बरपा रही है तो वहीं दूसरी ओर नाइजीरिया में संदिग्ध हैजे के प्रकोप ने तबाही मचा रखी है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के हवाले से आइएएनएस ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि नाइजीरिया में इस साल इस संदिग्ध हैजा के प्रकोप की वजह से कम से कम 50 लोगों की मौत हो गई है। नाइजीरिया सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (Nigeria Center for Disease Control, NCDC) के मुताबिक देश के कुछ आठ राज्यों ने संदिग्ध हैजा के प्रकोप की सूचना दी।

अबुजा में एनसीडीसी (Nigeria Center for Disease Control, NCDC) के प्रमुख चिकवे इचेजवाजू (Chikwe Ihekweazu) ने संवाददाताओं को बताया कि 28 मार्च तक 50 मौतों के साथ कुल 1,746 मामलों में 2.9 फीसद लोगों की मौत इस बीमारी के चलते हुई है। एनसीडीसी स्थिति पर बारीकी से नजर बनाए हुई है। नाइजीरिया के नसरवा, सोकोतो, कोगी, बेलेसा, गोम्बे, जम्फारा, डेल्टा और बेन्यू राज्यों ने इस संदिग्ध बीमारी की सूचना दी है। नाइजीरिया में इस बीमारी का प्रकोप लगातार बना हुआ है।  

रिपोर्ट के मुताबिक नाइजीरिया (Nigeria) में यह बीमारी अमूमन बरसात के मौसम में होती है। यह बीमारी ज्यादा गंदगी, भीड़भाड़, स्वच्छ भोजन और पानी की कमी वाले इलाकों में ज्‍यादा होती है। यह खुले में शौच करने वाली जगहों पर फैलती है। इससे पहले साल 2018 में एनसीडीसी (Nigeria Center for Disease Control, NCDC) ने देश भर में 16 हजार से अधिक हैजा के मामलों की पुष्टि की थी। इसके बाद इस बीमारी के उन्‍मूलन को लेकर सरकार की ओर से प्रयास किए गए थे। 

बीते 20 नवंबर 2019 को नाइजीरियाई राष्ट्रपति मुहम्मदू बुहारी (Nigerian President Muhammadu Buhari) ने संयुक्त राष्ट्र सतत विकास लक्ष्यों के लिए साल 2025 तक खुले में शौच को खत्म करने के लिए एक कार्यकारी आदेश को मंजूरी दी थी। दस्तावेज पर हस्ताक्षर करते समय बुहारी ने नाइजीरिया के पानी की आपूर्ति, स्वच्छता और स्वच्छ क्षेत्र पर भी आपातकाल की स्थिति की घोषणा की थी। उन्‍होंने कहा था कि इस पहलकदमी से देश के कई हिस्‍सों में फैल रही इस बीमारी के प्रकोप में कमी आएगी। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021