नई दिल्‍ली, आइएएनएस/पीटीआइ। Citizenship Amendment Act 2019 के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शनों को देखते हुए अमेरिका के बाद अब कनाडा ने भी अपने नागरिकों को एडवाइजरी जारी करके बिना जरूरत के पूर्वोत्‍तर की यात्रा से परहेज करने की सलाह दी है। समाचार एजेंसी आइएएनएस के मुताबिक, कनाडा के दूतावास ने शनिवार को अपने नागरिकों के लिए ट्रवेल एडवाइजरी जारी की। इसमें दूतावास ने अपने नागरिकों से कहा कि वे अरुणाचल प्रदेश, असम, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम और नगालैंड की यात्रा से परहेज करें।

यही नहीं दूतावास ने पूर्वोत्‍तर के अधिकांश हिस्‍सों में मोबाइल और इंटरनेट सेवाएं प्रभावित होने के साथ साथ परिवहन सेवाओं के भी प्रभावित होने की बात कही है। इससे पहले अमेरिका ने भी अपने नागरिकों को पूर्वोत्‍तर की यात्रा को लेकर आगाह किया था।

अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर नजर रखने वाले अमेरिका के एक राजनयिक ने कहा कि भारत में नागरिकता (संशोधन) विधेयक (कैब) से पड़ने वाले असर को लेकर अमेरिका चिंतित है। गौर करने वाली बात यह है कि भारत और अमेरिका के बीच अगले हफ्ते होने वाली 2+2 वार्ता से पहले यह बयान आया है। इस वार्ता में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री एस जयशंकर भाग लेंगे।

बता दें कि नागरिकता (संशोधन) विधेयक के संसद में पारित होने के बाद से ही इसके खिलाफ पूर्वोत्‍तर राज्‍यों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं, जिसे देखते हुए अधिकारियों को कर्फ्यू लगाना पड़ा था। हालांकि, गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ में लगाए गए कर्फ्यू में कुछ घंटों की ढील दी गई है। गुवाहाटी में पेट्रोल पंप खोल दिए गए हैं लेकिन स्कूल और कार्यालय अब भी बंद हैं। पश्चिम बंगाल में इस कानून के खिलाफ शनिवार को विरोध प्रदर्शन जारी रहे जिससे कई जगहों पर सड़कें एवं रेल मार्ग बाधित हुए। वहीं नगा छात्र संघ (एनएसएफ) द्वारा बुलाए गए बंद के बीच नगालैंड के कई हिस्सों में शनिवार को स्कूल, कॉलेज और बाजार बंद रहे। 

यह भी पढ़ें- Citizenship Amendment Act 2019 को मालदीव ने बताया भारत का आंतरिक मामला

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस