काबूल, एजेंसी । अफगानिस्‍तान की राजधानी काबूल में बड़े आतंकी हमले के बाद राष्‍ट्रपति अशरफ गनी ने देश से इस्‍लामिक स्‍टेट समूह के सभी सुरक्षित ठिकानों को खत्‍म करने की कसम खाई है। उन्‍होंने कहा कि किसी भी कीमत पर अफगानिस्‍तान को आइएस का स्‍वर्ग नहीं बनने दिया जाएगा।

राष्‍ट्रपति का यह बयान ऐसे समय आया है, जब रविवार को आतंकवादी संगठन आइएस ने एक बड़े आतंकी घटना को अंजाम दिया। इस घटना में 63 लोगों की जानें गईं हैं। आतंकवादियों ने इस घटना को तब अंजाम दिया, जब पूरा देश आजादी के जश्‍न में डूबा था। बता दें कि अफगानिस्‍तान का 100वें स्‍वतंत्रता दिवस था। इस विस्‍फोट के बाद अफगानिस्‍तान शांति वार्ता की सफलता पर भी सवाल उठने लगे हैं। यह सवाल भी उठ रहे हैं कि क्‍या अमेरिकी सेना की वापसी के बाद अफगान‍ितान के नागरिकों को शांति और सुरक्षा मिल पाएगी।

उधर, ताबिलबान ने अपने एक तीखे बयान में कहा है कि आखिर इमलावरों की पहचान करने में अमेरिका क्‍यों नाकाम रहा। इस हमले के बाद अमेरिकी तालिबान के साथ वार्ता में शामिल अमेरिकी दूत का कहना है कि अफगानिस्‍तान में आइएस के खात्‍में के लिए सहयोगियों की मदद ली जाएगी ताकि शांति प्रक्रिया को तेज किया जा सके। 

 यह भी पढ़ें: 99 साल की लीज पर चीन के हवाले किया गया था हांगकांग, जानें विवाद की पूरी कहानी...

यह भी पढ़ेंः लंदन में स्वतंत्रता दिवस मना रहे भारतीयों पर पाक ने कराया हमला 

दुनियाभर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस