काबुल, एएनआइ। अफगान राष्ट्रपति अशरफ गनी ने कहा है कि हजारों पाकिस्तानी आतंकवादी अफगानिस्तान में प्रवेश कर चुके हैं। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि तालिबान आतंकियों को पाकिस्तानी संस्था द्वारा प्रशिक्षित किया जा रहा है और इस्लामाबाद द्वारा वित्तपोषित किया जाता है।

अफगानिस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, राष्ट्रपति अशरफ गनी के एक प्रवक्ता ने मीडिया को भेजे गए एक वीडियो संदेश में कहा कि हजारों आतंकवादी पाकिस्तान से अफगानिस्तान में देश के छद्म युद्ध को अंजाम देने के लिए प्रवेश करते हैं।

संदेश में कहा गया है, 'हमारे पास सटीक खुफिया रिपोर्ट है कि 10,000 से अधिक आतंकवादी पाकिस्तान से अफगानिस्तान में प्रवेश कर चुके हैं, जबकि अन्य 15,000 को आने के लिए प्रोत्साहित किया गया है। इससे पता चलता है कि एक नियमित संस्था तालिबान को प्रशिक्षण और वित्तपोषण कर रही है।' इससे पहले अशरफ गनी ने कहा था कि सिर्फ एक महीने में 10 हजार आतंकवादियों ने पाकिस्तान से अफगानिस्तान में प्रवेश किया था।

इस महीने की शुरुआत में गनी ने आतंकवादी संगठनों के समूहों के साथ अपने संबंध नहीं तोड़ने के लिए पाकिस्तान की लताड़ लगाई थी और कहा था कि खुफिया रिपोर्टों के अनुसार, पिछले महीने 10,000 से अधिक 'जिहादी' लड़ाकों ने अफगानिस्तान में प्रवेश किया था, जबकि पाकिस्तान की इमरान सरकार शांति वार्ता में गंभीरता से बातचीत करने के लिए तालिबान को समझाने में विफल रही थी।

गनी के कार्यालय की तरफ से लंबे समय से इस बात पर जोर दिया गया है कि तालिबान अफगानिस्तान में पाकिस्तान का छद्म युद्ध लड़ता है। वहीं, अफगान अधिकारियों ने पाकिस्तान पर तालिबान को हवाई सहायता प्रदान करने और स्पिन बोल्डक सीमा क्षेत्र पर फिर से अफगानी बलों के कब्जा करने के प्रयास पर जवाबी कार्रवाई करने की धमकी देने का भी आरोप लगाया। पिछले कुछ हफ्तों में अफगानिस्तान में हिंसात्मक घटनाएं बढ़ी हैं क्योंकि तालिबान ने नागरिकों और अफगान सुरक्षा बलों पर हमलों में तेजी कर दी है।

Edited By: Neel Rajput