हांगकांग, एएफपी। हांगकांग की शीर्ष अपील अदालत ने शुक्रवार को लोकतंत्र समर्थक 13 कार्यकर्ताओं को रिहा कर दिया। इन लोगों ने 2014 में हांगकांग की विधायी परिषद में प्रवेश कर विरोध प्रदर्शन किया था। बतौर सजा इन लोगों को पहले सामुदायिक सेवा का काम दिया गया था। लेकिन बाद में प्रशासन की अपील पर उन्हें आठ से 13 महीने कैद की सजा दी गई थी। हांगकांग के उत्तर पूर्वी ग्रामीण इलाके से ताल्लुक रखने वाले इन 13 लोगों में लोकतंत्र कार्यकर्ता, छात्र नेता और ग्रामीण शामिल हैं।

कोर्ट के निर्णय पर खुशी जताते हुए एक कार्यकर्ता राफेल वांग ने कहा, 'प्रदर्शन के दौरान हमने कोई हिंसा नहीं की थी। ना ही किसी को नुकसान पहुंचाने का हमारा कोई इरादा था।' इस साल यह दूसरा मौका है जब शीर्ष अदालत ने लोकतंत्र समर्थक कार्यकर्ताओं को बरी किया है।

इससे पहले गत फरवरी में अंब्रेला आंदोलन से जुड़े छात्र नेता जोशुआ वांग सहित तीन कार्यकर्ताओं को रिहा किया गया था। ब्रिटेन ने 1997 में हांगकांग को चीन को सौंप दिया था। तभी से वहां का प्रशासन 'एक देश, दो प्रणाली' के तहत संचालित होता है। चीन के मुकाबले हांगकांग के नागरिकों को ज्यादा अधिकार प्राप्त हैं।

Posted By: Ravindra Pratap Sing