नई दिल्‍ली जागरण स्‍पेशल । साल 2019 जाने को है। इस साल आईएस के पूर्व प्रमुख अबु बक्र अल-बग़दादी की मौत ने पूरी दुनिया का ध्‍यान आकृ‍ष्‍ट किया। पूरा मध्‍य-एशिया अशांत और अस्थिर रहा। इसी तरह से अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर घटित कुछ घटनाएं मीडिया की सुर्खियों में रहीं। मध्‍य एशिया में कई मुल्‍कों में राजनीतिक अस्थिरता देखी गई। 23 सितंबर 2019 का दिन भारत के लिए ऐतिहासिक रहा। अमेरिका में हउदी मोदी शो भारत के‍ लिए गौरव का क्षण रहा। देश के इतिहास में यह पहला मौका है कि जब दुनिया के दो बड़े देशों के प्रधान एक साथ लोगों को संबोधित किए। आइए, हम आपको सालभर की प्रमुख अंतरराष्‍ट्रीय घटनाओं से रूबरू कराते हैं। 

1- मध्‍य एशिया में राजनीतिक अस्थिरता

पूरे साल मध्‍य एशिया में राजनीतिक अस्थिरता और उपद्रव देखने को मिला। इस्‍लामिक स्‍टेट भी सुर्खियों में रहा। अमेरिकी सेना ने इस्लामिक स्टेट समूह के ख़िलाफ़ जबरदस्‍त ऑपरेशन चलाया। अक्‍टूबर, 2019 में उत्‍तरी सीरिया से अमेरिकी सेना के हटाए जाने के एलान किया।

तुर्की ने उत्तरी सीरिया में संघर्ष विराम लागू करने की अमरीका का मांग को ठुकराया और कुर्दो पर हमला जारी रखा। उत्‍तर सीरिया में कुर्दो पर हमले को लेकर अमेरिका और तुर्की आमने-सामने हुए। तुर्की अपनी सीमा से लगने वाले सीरियाई हिस्से से कुर्द लड़ाकों को हटा कर वहां 32 किलोमीटर तक का एक "सेफ़ ज़ोन" बनाना चाहता है, जहां बीस लाख सीरियाई शरणार्थियों को फिर से बसाना चाहता है। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और तुर्की के तुर्की राष्‍ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन के बीच 10-सूत्री समझौते पर हस्ताक्षर हुए। 

2- बगदादी मारा गया

इस साल इस्लामिक स्टेट (आईएस) के पूर्व प्रमुख अबु बक्र अल-बग़दादी के मारे जाने की घटना एक बड़ी खबर थी। 27 अक्टूबर को राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने चरमपंथी समूह आईएस के पूर्व प्रमुख अबु बक्र अल-बग़दादी की मौत की घोषणा किया। ट्रंप ने कहा कि अमरीकी सेना ने सीरिया में एक ऑपरेशन किया जिस दौरान बग़दादी ने अपने आप को आत्मघाती जैकेट के धमाके से उड़ा दिया।

ट्रंप ने दावा किया था कि इस ऑपरेशन से अमरीकी सेना को 'बहुत सी संवेदनशील जानकारियां और चीज़ें' मिली हैं। अमेरिकी सेना बाद में इस हमले के कई फुटेज जारी किए है। इसमें वह नजर आ रहा है। इस फुटेज में हेलीकॉप्‍टर्स से जमीन पर बंदूकधारियों पर गोलीबारी भी दिखाई पड़ रही है, जहां बगदादी छिपा हुआ था। अमेरिकी विशेष बलों की कंमाडो कार्रवाई भी दिखाई गई है। कैसे कमांडो ने परिसर की दीवारों में छेद किए और बगदादी से आत्‍मसमर्पण करने को कहा। उसको सुरंग में भागते हुए भी देखा गया है। आत्‍मघाती बम विस्‍फोट करते हुए भी दिखाया गया है। 

3- अमेरिका में हउदी मोदी शो

23 सितंबर 2019 का दिन भारत के लिए एक ऐतिहासित रहा। अमेरिका में हउदी मोदी शो ने भारत के‍ लिए गौरव का विषय रहा। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस कार्यक्रम के महत्‍व और गौरव का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि खुद अमेरिका के राष्‍ट्रपति ने इस कार्यक्रम में शिरकत किए। यह पहला मौका है कि जब कभी दुनिया के दो बड़े देशों के प्रधान एक साथ लोगों को संबोधित कर रहे हैैं।

अंतरराष्‍ट्रीय जगत में भारत ने अपनी शक्ति का एहसास कराया। यह शो उस समय हुआ जब प‍ाकिस्‍तान दुनिया में अनुच्‍छेद 370 का रोना रो रहा था। ऐसे में भारत ने अपने इस कूटनीतिक कदम से पाकिस्‍तान और उसके समर्थकों को पस्‍त कर दिया। पीएम मोदी टेक्सास के ह्यूस्टन में 50 हजार से अधिक अमेरिकी-भारतीय लोगों को संबोधित किए। 

4- पाकिस्‍तान ग्रे लिस्‍ट से बचा

17 अक्‍टूबर 2019 पाकस्तिान के लिए एक ब्‍लैक डे साबित हुआ। फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) ने अगले साल फरवरी तक पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में बनाए रखने का फैसला किया। FATF ने इस्लामाबाद को टेरर फंडिंग और मनी लॉन्ड्रिंग (धन शोधन) जैसे मुद्दों से निपटने के लिए अतिरिक्त कदम उठाने का आदेश दिया।

पेरिस में एफएटीएफ की एक बैठक में पाकिस्तान की उन कार्रवाइयों की समीक्षा की गई थी, जिन्हें पाकिस्तान ने पहले ही मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फंडिंग को नियंत्रित करने के लिए उठाए। मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फंडिंग रोकने को लेकर पाकिस्तान द्वारा उचित कदम नहीं उठाने से असंतुष्ट एफएटीएफ ने पाकिस्तान को ब्लैक लिस्ट से लिंक किया।

 

Posted By: Ramesh Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस