तेहरान, पीटीआइ। यूक्रेन विमान हादसे को अंतरारष्ट्रीय दबाव का समाना कर रहे ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने सैन्य बलों से माफी मांगने को कहा है। इससे पहले मंगलवार को इस हादसे को लेकर कुछ लोगों की गिरफ्तारी हुई। इस दौरान रूहानी ने कहा था कि हादसे का कोई भी दोषी बख्शा नहीं जाएगा।

रूहानी ने बुधवार को इस दौरान राष्ट्रीय एकता का आह्वान किया। उन्होंने यह भी कहा कि लोग यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि अधिकारी उनके साथ ईमानदारी, निष्ठा और विश्वास के साथ व्यवहार करें। उन्होंने सशस्त्र बलों को माफी मांगने का आदेश देने के साथ- साथ इस हादसे में क्या हुआ इसकी जानकारी देने को भी कहा। 

विमान में सवार सभी 176 लोगों की मौत हो गई थी

गौरतलब है कि इस हादसे में विमान में सवार सभी 176 लोगों की मौत हो गई थी। पिछले दिनों यूक्रेनी विमान को गलती से मार गिराने की बात ईरान ने कबूली थी। उसने कहा था कि मानवीय गलती के कारण ऐसे हुआ है। मामले में गिरफ्तारी की जानकारी ईरानी कोर्ट ने दी थी। हालांकि, इस दौरान कितने लोगों की गिरफ्तारी हुई इसकी जानकारी कोर्ट ने नहीं दी थी। 

ट्रंप के नए सौदे के प्रस्ताव को खारिज किया

ईरानी राष्ट्रपति हसन रूहानी ने मंगलवार को परमाणु विवाद के समाधान के उद्देश्य से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के नए सौदे के प्रस्ताव को खारिज कर दिया। उन्होंने इस अजीब प्रस्ताव बताया और वादों को तोड़ने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की आलोचना की।

2015 के परमाणु समझौते पर लौटने को कहा

एक टेलीवीज भाषण में राष्ट्रपति रूहानी ने अमेरिका को ईरान और विश्व शक्तियों के बीच 2015 के परमाणु समझौते पर लौटने के लिए कहा। उन्होंने इस दौरान कहा कि ईरान इस संधि के तहत अपनी प्रतिबद्धताओं के खातिर अपने कदम पीछे कर सकता है। उन्होंने इस समझौते को लेकर यूरोपीय दलों की आलोचना की।  उन्होंने कहा कि वे अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरा करने में विफल रहे हैं। अमेरिकी प्रतिबंध जारी रहने तक ईरान बार-बार एक नए सौदे पर बातचीत करने से इन्कार करता रहा है।

Posted By: Tanisk

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस