दुबई, प्रेट्र। खाड़ी देशों के एनआरआइ उद्योगपतियों ने भारत के आम बजट का स्वागत किया है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा वित्त वर्ष 2020-21 के लिए पेश किए गए बजट में कृषि, शिक्षा और इन्फ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र को लेकर किए गए प्रावधानों की तारीफ करते हुए इन उद्योगपतियों ने बजट को देश का भविष्य सुरक्षित करने वाला बताया।

कृषि और शिक्षा पर जोर देने के चलते यह बजट आशावादी

लुलु ग्रुप इंटरनेशनल के चेयरमैन युसुफाली एमए ने कहा कि कृषि और शिक्षा पर जोर देने के चलते यह बजट आशावादी है।

कृषि क्षेत्र के लिए 16 बिंदुओं का एक्शन प्लान स्वागत योग्य कदम

उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र के लिए 16 बिंदुओं का एक्शन प्लान और शिक्षा के क्षेत्र में एफडीआइ की मंजूरी से देश का भविष्य सुरक्षित होगा। इसके अलावा शुरुआती स्तर पर स्टार्ट-अप्स को आर्थिक मदद और इन्वेस्टमेंट क्लीयरेंस एंड एडवाइजरी सेल का प्रावधान भी स्वागत योग्य कदम है।

इस आम बजट को दशक का सबसे बेहतरीन बजट बताया

युसुफाली ने कहा कि डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स को हटाने से निवेश को आकर्षित करने में मदद मिलेगी। उन्होंने इस आम बजट को दशक का सबसे बेहतरीन बजट बताया।

खपत और निवेश को बढ़ाने के लिए बजट में व्यवहारिक कदम उठाए गए

फिनाब्लर के ग्रुप सीईओ प्रमोथ मंगत ने कहा कि खपत और निवेश को बढ़ाने के लिए बजट में व्यवहारिक कदम उठाए गए हैं। राजकोषीय घाटे को लेकर भी उदारवादी रुख अपनाया गया है।

टैक्स स्लैब में सुधार और कृषि क्षेत्र के लिए की गई घोषणाएं सही दिशा में सही कदम

मंगत ने बताया कि टैक्स स्लैब में सुधार और कृषि क्षेत्र के लिए की गई घोषणाएं सही दिशा में किए गए प्रयास हैं।

इलेक्ट्रॉनिक्स और आइटी इंडस्ट्री का उत्पादन बढ़ने से इकोनॉमी को मिलेगी गति

अलमाया ग्रुप के डायरेक्टर कमल वचानी ने इलेक्ट्रॉनिक इंडस्ट्री के प्रोडक्शन बढ़ाने के लिए किए गए प्रयासों की तारीफ की। उन्होंने कहा कि घरेलू स्तर पर इलेक्ट्रॉनिक्स और आइटी इंडस्ट्री का उत्पादन बढ़ने से इकोनॉमी को गति मिलेगी।

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस