Move to Jagran APP

'इजरायल का कोई भी हिस्सा नहीं रहेगा हमले से सुरक्षित...', हिजबुल्ला ने अब इस छोटे देश के साथ युद्ध का किया एलान!

Israel Hamas War हिजबुल्ला के नेता हसन नसरुल्ला (Hassan Nasrallah) ने कहा है कि इजरायल के साथ अगर उनके संगठन का युद्ध हुआ तो उसकी कोई सीमा नहीं होगी। नसरुल्ला ने साइप्रस के साथ भी युद्ध की बात कही है जिसे साइप्रस ने खारिज कर दिया है। नसरुल्ला ने कहा कि उनका संगठन सबसे मुश्किल दौर के लिए तैयार है।

By Agency Edited By: Sonu Gupta Thu, 20 Jun 2024 11:59 PM (IST)
हिजबुल्ला ने इजरायल और साइप्रस को दी धमकी। फोटोः रायटर।

आइएएनएस, बेरूत। हिजबुल्ला के नेता हसन नसरुल्ला (Hassan Nasrallah) ने कहा है कि इजरायल के साथ अगर उनके संगठन का युद्ध हुआ तो उसकी कोई सीमा नहीं होगी। इजरायल पर सभी ओर से हमले होंगे और उसका कोई भी हिस्सा हिजबुल्ला के हमलों से अछूता नहीं रहेगा। नसरुल्ला ने साइप्रस के साथ भी युद्ध की बात कही है, जिसे साइप्रस ने खारिज कर दिया है।

किसी भी स्तर का तनाव और टकराव झेलने के लिए तैयार

हिजबुल्ला नेता ने यह बात इजरायली हमलों में मारे गए संगठन के कमांडरों और लड़ाकों को श्रद्धांजलि देने के कार्यक्रम में कही है। नसरुल्ला ने कहा कि उनका संगठन सबसे मुश्किल दौर के लिए तैयार है। वह किसी भी स्तर का तनाव और टकराव झेलने के लिए भी तैयार है। हिजबुल्ला प्रमुख का यह बयान तब आया है जब इजरायली सेना ने संगठन के खिलाफ कार्रवाई के लिए योजना तैयार होने की बात कही है।

धमकियों से डरने वाले नहीं हैंः नसरुल्ला

नसरुल्ला ने कहा कि हम ऐसी धमकियों से डरने वाले नहीं हैं। हिजबुल्ला की मिसाइल और राकेट इजरायल के किसी भी हिस्से को सुरक्षित नहीं रहने देंगे, वहां भारी तबाही फैलाएंगे। विदित हो ईरान समर्थित हिजबुल्ला गाजा में इजरायली सैन्य कार्रवाई का विरोध कर रहा है और हमास के समर्थन में आठ अक्टूबर, 2023 से इजरायल पर हमले कर रहा है। इजरायल भी इन हमलों का जवाब दे रहा है। बीते आठ महीनों से दोनों के बीच लड़ाई चल रही है।

रफाह में आमने-सामने की भीषण लड़ाई

गाजा में रफाह सहित अन्य शहरों में इजरायली हमले जारी हैं। मिस्त्र सीमा पर बसे रफाह में इजरायली सैनिकों और फलस्तीनी लड़ाकों के बीच आमने-सामने की लड़ाई चल रही है जबकि अन्य इलाकों में इजरायली सेना हवाई हमले कर रही है। गुरुवार को मारे गए लोगों को मिलाकर गाजा में इजरायली हमलों में अभी तक कुल 37,431 फलस्तीनी मारे गए हैं।  

यह भी पढ़ेंः

Israel Hamas War: हमास से जंग के बीच नेतन्याहू का बड़ा फैसला, वॉर कैबिनेट को किया भंग, जानिए क्यों उठाया ये कदम