अबूधाबी, प्रेट्र। भारत और यूएई ने करेंसी अदला-बदली सहित दो समझौतों पर हस्ताक्षर किए। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने अपने समकक्ष अब्दुल्लाह बिन जायेद अल नाहयान के साथ व्यापार, सुरक्षा एवं रक्षा जैसे क्षेत्रों में सहयोग स्थापित करने पर गहरी बातचीत की।

यूएई-भारत संयुक्त आयोग की बैठक में भाग लेने के लिए दो दिनों के दौरे पर सोमवार को अबूधाबी पहुंची स्वराज का विदेश मंत्री ने स्वागत किया। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया है, 'समग्र रणनीतिक साझीदारी आगे बढ़ी।

सुषमा स्वराज और विदेश मंत्री शेख अब्दुल्लाह बिन जायेद अल नाहयान ने 12वें इंडिया-यूएई जेसीएम की अध्यक्षता की। ऊर्जा में सहयोग, सुरक्षा, व्यापार, निवेश, अंतरिक्ष, रक्षा और वाणिज्य दूत एवं अन्य पर विस्तृत चर्चा हुई।' आर्थिक और तकनीकी सहयोग के लिए यह भारत-यूएई संयुक्त आयोग की 12वीं बैठक हुई है।

क्या है करेंसी अदला-बदली 
करेंसी अदला-बदली एक ऐसा समझौता है जो दोनों देशों को अपनी मुद्रा में व्यापार की इजाजत देगा। इसके अलावा दोनों आयात एवं निर्यात के लिए भुगतान कर सकेंगे। इसके लिए अमेरिकी डॉलर जैसी तीसरी बेंचमार्क मुद्रा को लाए बगैर पूर्व निर्धारित दर पर भुगतान किया जा सकेगा। दूसरे समझौते से दोनों पक्ष अफ्रीका में विकास परियोजना ले सकेंगे।

 

Posted By: Arun Kumar Singh