दुबई, एजेंसी । यह खबर उस लड़की की है, जिसने अपनी प्‍यार की खातिर सब कुछ छोड़ दिया। वह मां की ममता भूल गई। उसने पिता की सुरक्षा को ताक पर रख दिया। उस धर्म को छोड़ दिया, जो उसके विवाह में बड़ी बाधा बन रहा था। एक प्‍यार को पाने के लिए वह दिल्‍ली से दुबई उड़ गई। आइए जानते हैं सियानी के प्‍यार की पूरी कहानी के तीन सच।  

खबरों का सच

न्‍यूज अखबार के मुताबिक दिल्‍ली में रहने वाली सियान गत 18 सितंबर को अबूधाबी पहुंची, जहां उसने इस्‍लाम धर्म स्‍वीकार कर एक भारतीय से शादी कर ली। धर्म परिवर्तन के बाद व‍ह सियानी से आयसा बन गई। उसकी खोज में निकले सियानी के माता-पिता ने दिल्‍ली में उसके अपहरण की रिपोर्ट दर्ज कराई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि मेरी बेटी का अपहरण किया गया है और उसे आतंकी संगठन में शामिल होने के लिए मजबूर किया जा रहा है। लेकिन बेटी ने पिता के इस दलील को खारिज कर दिया।

सियानी का सच  

सियानी ने कहा.. यह सच नहीं है। मैं अपनी मर्जी से अबूधाबी आई हूं। किसी ने मुझे मजबूर नहीं किया है। मैं भारत की व्‍यसक्‍ नागरिक हूं।....सियानी ने गृहमंत्री राष्‍ट्रीय अल्‍पसंख्‍यक आयोग और दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री केा पत्र लिखकर कहा.... गत 24 सितंबर को अबूधाबी की अदालत में उसने अपनी इच्‍छा से इस्‍लाम कुबूल किया। मेरे माता-पिता मुझसे मिलने के लिए अबूधाबी आए थे, लेकिन मैंने उनसे कह दिया कि मैं नहीं लौटूंगी।

माता-पिता का सच

केरल के कोझिकोड में रहने वाले सियानी के माता-पिता ने दिल्‍ली पुलिस में अपनी बेटी की गुमशुदगी की शिकायत की है। जबकि उसके कुछ सहपाठियों ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी देकर चीफ जस्टिस से गुहार लगाई है कि भारतीय लड़की को जबरन अगवा कर लिया गया है। अपने शिकायत में परिजनों ने कहा है कि हमारी बेटी को बहकाया गया है। इससे वह इस्‍लामिक स्‍टेट से जुड़ सके और गुलाम बनाई जा सके। 

 

Posted By: Ramesh Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप