मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

 इस्तांबुल, आइएएनएस/रायटर। इस्तांबुल स्थित सऊदी वाणिज्य दूतावास में हत्या के बाद पत्रकार जमाल खशोगी के शव को तेजाब में गला दिया गया। तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप एर्दोगन के सलाहकार ने शुक्रवार को यह दावा किया।

 राष्ट्रपति के सलाहकार यासिन अक्ताय ने दैनिक अखबार हुर्रियत से कहा, 'अब हम देख रहे हैं कि सिर्फ टुकड़े ही नहीं किए गए। पीछा छुड़ाने के लिए शव को तेजाब में गला दिया गया। हमारे पास जो नवीनतम सूचनाएं हैं, उसके अनुसार शव के टुकड़े करने से ज्यादा आसान उसे गला देना था।

वे लोग यह सुनिश्चित करना चाहते थे कि शव का कोई चिह्न नहीं बचे। एक निर्दोष आदमी की हत्या एक अपराध है, शव के साथ वास्तव में क्या किया गया, यह दूसरा अपराध है।'

वाशिंगटन के पोस्ट के स्तंभ लेखक और सऊदी क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान के धुर आलोचक खशोगी दो अक्टूबर को अपनी शादी की कागजी कार्रवाई पूरी करने के लिए इस्तांबुल में सऊदी वाणिज्य दूतावास गए थे। इसके बाद वह नहीं लौटे और उनकी गुमशुदगी के बाद सऊदी अरब निशाने पर आ गया। बाद में रियाद ने माना कि पत्रकार की हत्या हुई।

इजरायल ने कहा, खशोगी की हत्या जघन्य
यरूशलम। इजरायल के ऊर्जा मंत्री युवाल स्तेइनित्ज ने खशोगी की हत्या को जघन्य करार दिया। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि उनका देश ईरान के साथ संघर्ष से कहीं ज्यादा खाड़ी देश के साथ संबंध को लेकर चिंतित है। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि वह यह नहीं कह सकते कि उनका यह विचार प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू सरकार के विचार से मेल खाता है।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप