तेहरान, आइएएनएस। ईरान में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है। देश में अब तक 19 लोगों की इसके संक्रमण ने जान ले ली है। एक सांसद का हालांकि दावा है कि अकेले पवित्र शहर कौम में 50 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। ईरान के स्वास्थ्य उपमंत्री इराज हरिरची भी कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं।

डब्ल्यूएचओ ने मदद के लिए विशेषज्ञों की टीम भेजी

ईरान में खराब होते हालात से चिंतित विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने विशेषज्ञों की एक टीम वहां भेजी है। चीन के बाद ईरान में ही सबसे ज्यादा लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हैं। बहरीन और यूएई ने ईरान से आने वाली फ्लाइट्स पर प्रतिबंध लगा दिया है।

स्वास्थ्य उपमंत्री इराज ने कहा- प्राथमिक जांच में कोरोना वायरस की पुष्टि

देश के स्वास्थ्य उपमंत्री इराज ने बुधवार को बताया कि उन्हें सोमवार से ही बुखार था। प्राथमिक जांच में कोरोना वायरस की पुष्टि के बाद उन्हें सबसे अलग कर एकांत में रखा गया है। इराज ने लोगों को विश्वास दिलाया कि सरकार कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की हर तरह से सहायता करेगी। उदारवादी धड़े के सांसद महमूद सादेघी भी कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं।

दक्षिण कोरिया में अमेरिकी सैनिक समेत 284 नए मामले सामने आए

दक्षिण कोरिया में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 284 नए मामले सामने आए। इनमें एक अमेरिकी सैनिक भी शामिल है। देश में संक्रमित लोगों की संख्या 1261 और मृतकों की संख्या 12 हो गई है। कोरिया सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (केसीडीसी) ने कहा है कि संक्रमण के जो नए मामले सामने आए हैं, उनमें से 134 दायगू शहर से हैं। शिन्चेओनजी चर्च ऑफ जीसस की एक शाखा इस शहर में भी है। दक्षिण कोरिया में महामारी की शुरुआत इसी चर्च से जुड़े लोगों द्वारा मानी जा रही है। कोरोना वायरस के संक्रमण से प्रभावित अमेरिकी सेना का 23 वर्षीय सैनिक दायगू से 20 किमी दूर कैरोल स्थित सैन्य अड्डे पर तैनात था।

अमेरिकी सैन्य अड्डों पर आंगतुकों की हेल्थ स्क्रीनिंग शुरू

दक्षिण कोरिया में स्थित अमेरिकी सैन्य अड्डों पर रोक के साथ ही आंगतुकों की हेल्थ स्क्रीनिंग शुरू कर दी गई है, जिसके चलते इन सैन्य अड्डों के बाहर लंबी लाइनें देखी जा सकती हैं। अमेरिका और दक्षिण कोरियाई सेनाएं संक्रमण को देखते हुए संयुक्त सैन्य अभ्यास टालने पर विचार कर रही हैं।

राष्ट्रपति के खिलाफ महाभियोग की अर्जी पर सात लाख ने किए दस्तखत

दक्षिण कोरिया के लोगों ने महामारी से निपटने के राष्ट्रपति मून जे-इन द्वारा उठाए गए कदमों पर नाराजगी जताई है। उनका कहना है कि पूरे चीन से आने वाले लोगों पर प्रतिबंध लगाने के बजाय केवल हुबेई प्रांत से आने वाले लोगों पर ही रोक लगाई गई है। इसी वजह से यह महामारी इतनी बढ़ गई है। राष्ट्रपति के खिलाफ महाभियोग चलाने की अर्जी पर अभी तक सात लाख लोग हस्ताक्षर कर चुके हैं।

अमेरिका में महामारी फैलने की आशंका

अमेरिका के एक संघीय स्वास्थ्य अधिकारी ने मंगलवार को चेतावनी दी कि कोरोना वायरस का संक्रमण अमेरिका में जरूर फैलेगा। अमेरिका नेशनल सेंटर फॉर इम्यूनाइजेशन एंड रेस्पिरेटरी डिजीज की निदेशक डॉ नैंसी मेसोनियर ने कहा, महामारी कब फैलेगी, इस बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता। इस महामारी से बचने का एकमात्र उपाय यह है कि छोटे-छोटे समूहों में लोगों को बांट दिया जाए। मीटिंग और कांफ्रेंस रद करने के साथ ही लोगों को घर से ही काम करने के लिए प्रेरित किया जाए।

कोरोना वायरस के संक्रमण से फ्रांस में पहली मौत

फ्रांस के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना वायरस के संक्रमण से देश में पहली मौत की पुष्टि की है। फ्रांस में संक्रमण के चार नए मामलों का पता लगा है। इनमें से दो इटली से लौटे थे। इस तरह संक्रमित लोगों की संख्या 17 हो गई है।

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस