मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

काबुल, आइएएनएस। आतंकी संगठन तालिबान के साथ शांति वार्ता रद करने के अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के फैसले का अफगानिस्तान के ज्यादातर नागरिकों ने समर्थन किया है। एक सर्वे में नागरिकों ने कहा कि ट्रंप ने तालिबान से वार्ता रद कर सही फैसला लिया है। आतंकी संगठन को अफगानिस्तान में 18 साल से जारी हिंसा खत्म कर देनी चाहिए। कुछ लोगों ने तालिबान से गुजारिश की है कि वह संघर्ष विराम कर अमेरिका और अफगान सरकार से फिर वार्ता शुरू करे।

ट्रंप ने रविवार को ऐसे समय पर तालिबान के साथ शांति वार्ता रद करने का एलान किया था, जब दोनों पक्ष समझौते की दहलीज पर थे। अमेरिका तालिबान के साथ गत दिसंबर से वार्ता कर रहा था। ट्रंप के इस फैसले से अफगानिस्तान में हिंसा बढ़ने की आशंका जताई जा रही है।

अफगानिस्तान के प्रमुख न्यूज चैनल ने कराया सर्वे
ट्रंप के एलान के बाद अफगानिस्तान के प्रमुख न्यूज चैनल टोलो न्यूज की ओर से अपने फेसबुक पेज पर कराए गए सर्वे में 25,500 अफगान नागरिकों ने हिस्सा लिया था। इनमें से करीब 76 फीसद प्रतिभागियों ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति ने तालिबान के साथ वार्ता रद कर सही कदम उठाया।

जबकि इसके ट्विटर अकाउंट पर कराए गए सर्वे में शामिल लोगों में से 44 फीसद ने ट्रंप के फैसले को सही बताया। 40 फीसद ने कहा कि वे फैसले से चिंतित हैं। टोलो न्यूज के संपादक सियर सिरात ने कहा, 'सर्वे से जाहिर होता है कि फेसबुक का इस्तेमाल करने वाले ज्यादातर आम अफगान नागरिक फैसले के पक्ष में हैं, जबकि ट्विटर पर ज्यादातर सियासी लोग सक्रिय हैं। वे हालात से अच्छी तरह वाकिफ हैं। इसलिए वे फैसले से चिंतित हैं।'

इसे भी पढ़ें: तालिबान यूएस वार्ता के टूटने का असर होगा व्‍यापक, भारत को भी रहना होगा चौकन्‍ना!

इसे भी पढ़ें: ट्रंप-तालिबान शांति वार्ता टूटी, भारत ने ली राहत की सांस, पाकिस्तान को लगा करारा झटका

 

Posted By: Dhyanendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप