मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

काबुल, रायटर। अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने आतंकी संगठन तालिबान से हिंसा बंद करने और सरकार से सीधी वार्ता की अपील की है। गनी का यह बयान तालिबान नेताओं के साथ होने वाली गोपनीय बैठक रद करने के अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के फैसले के बाद आया है। इस पर अपनी प्रतिक्रिया में अफगान सरकार ने कहा है कि तालिबान के हिंसा बंद करने पर ही अफगानिस्तान में शांति आ सकती है। तालिबान ने हाल में आतंकी वारदातें तेज कर दी हैं।

तालिबान से वार्ता रद करने के ट्रंप के फैसले पर गनी के एक करीबी ने कहा, अमेरिकी सरकार के निर्णय से साबित होता है कि वह शांति समझौते पर अफगान सरकार की चिंता को स्वीकार कर रहे हैं। पहचान उजागर नहीं किए जाने की शर्त पर उन्होंने कहा, 'अफगान सरकार ट्रंप के निर्णय का समर्थन करती है। तालिबान और अमेरिका के समझौते का मसौदा अफगानिस्तान में शांति की गारंटी नहीं देता।'

28 सितंबर को हैं राष्ट्रपति चुनाव
इस बीच, गनी के कार्यालय ने इस महीने हर हाल में राष्ट्रपति चुनाव कराए जाने पर जोर देते हुए कहा कि वह अफगानिस्तान में दीर्घकालीन शांति के लिए अमेरिका और उसके सहयोगियों के साथ काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। अफगानिस्तान में 28 सितंबर को राष्ट्रपति चुनाव होना है। तालिबान की शर्त है कि चुनाव रद होने पर ही वह अमेरिका के साथ समझौता करेगा।

इसे भी पढ़ें: खटाई में पड़ा अमेरिका-तालिबान शांति समझौता, ट्रंप का एलान अब नहीं होगी कोई वार्ता, जानें वजह

इसे भी पढ़ें: तालिबान के साथ वार्ता पर बोले अमेरिकी रक्षा मंत्री, ऐसे ही किसी समझौते को नहीं करेंगे स्वीकार

Posted By: Dhyanendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप