यरुशलम, एजेंसी।‌ यरुशलम के पुराने शहर में रविवार को यहूदी उपासकों को ले जा रही बस पर बड़ा हमला हुआ। इस बड़ी घटना को बस में सवार एक बंदूकधारी ने अंजाम दिया। इजरायली पुलिस और वहां मौजूद लोगों ने बताया कि हमले में 7 लोग घायल हो गए हैं। वहीं इजरायली मीडिया ने घटना की जानकारी देते हुए कहा कि हमलावर पूर्वी यरुशलम का एक फिलिस्तीनी था।

इजरायली पुलिस ने दी जानकारी

पुलिस के एक बयान के अनुसार, शूटर ने बाद में खुद को इजरायली अधिकारियों की वेशभूषा में बदल लिया, जिसके चलते उसकी पहचान नहीं की जा सकी। आपको बता दें कि यरुशलम के ओल्ड सिटी में ऐसे स्थान हैं जो यहूदियों, मुसलमानों और ईसाइयों के लिए पवित्र हैं और उन क्षेत्रों में से हैं जहां फिलिस्तीनी राज्य का दर्जा चाहते हैं। इज़राइल पूरे यरुशलम को अपनी राजधानी मानता है। एक ऐसा दर्जा जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त नहीं है।

कब और कैसे हुआ यह हमला

यह हमला रविवार की तड़के हुआ, जब यहूदी सब्त के अंत को चिह्नित करते हुए पश्चिमी दीवार के संस्कार छोड़ रहे थे। प्रधान मंत्री यायर लैपिड ने एक बयान में कहा, 'यरूशलम हमारी राजधानी है और सभी धर्मों के लिए एक पर्यटन केंद्र है।' उन्होंने आगे कहा कि इजरायली सुरक्षा बल 'शांति बहाल करेंगे।'

वहीं दूसरी तरफ इस हमले की गाजा में फिलीस्तीनी उग्रवादी गुटों ने प्रशंसा की है, जो एक साल से अधिक समय और शत्रुता के सबसे खराब प्रकोप के एक सप्ताह बाद आया है।

हालांकि अभी तक किसी भी सशस्त्र गुट की ओर से इस हमले को लेकर तत्काल जिम्मेदारी का दावा नहीं किया गया है। बता दें कि बीते कुछ दिनों से इजरायल ने गाजा पर कई हवाई हमले किए, 56 घंटे की लड़ाई के दौरान गाजा में कम से कम 49 लोग मारे गए और सैकड़ों घायल हो गए। इस हमले में आतंकवादी इस्लामिक जिहाद गुट द्वारा इजरायल की ओर 1,000 से अधिक रॉकेट दागे गए। वहीं पिछले हफ्ते वेस्ट बैंक शहर नब्लस में इजरायली सुरक्षा बलों के साथ गोलीबारी में तीन बंदूकधारियों के मारे जाने के बाद से तनाव जारी है।

Edited By: Ashisha Singh Rajput