जापान, एजेंसियां। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन इन दिनों एशिया यात्रा पर हैं, जिसके दूसरे चरण में रविवार को को वह जापान पहुंचे। अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर बाइडन की यह पहली एशिया यात्रा है। बाइडन प्रशासन के इस अहम दौरे से अमेरिका के तमाम एशियाई दोस्तों को काफी उम्मीदें हैं। आज वह जापान के पीएम फुमियो किशिदा और जापानी सम्राट नारुहितो से मुलाकात करेंगे। इसके साथ ही राष्ट्रपति जो बाइडन आस्ट्रेलिया, भारत, जापान और अमेरिका से मिलकर बने क्वाड समूह के शिखर सम्मेलन में शामिल होने से पहले, सोमवार को इस क्षेत्र के लिए अमेरिका के नेतृत्व वाली व्यापार पहल का अनावरण करेंगे।

बता दें कि राष्ट्रपति बाइडन 24 मई को जापान में आयोजित क्वाड शिखर सम्मेलन 2022 में भी शामिल होंगे। इससे पहले शुक्रवार को बाइडन दक्षिण कोरिया में थे। सिओल पहुंचने पर दक्षिण कोरियाई विदेश मंत्री पार्क जिन और कोरिया में अमेरिकी सेना के कमांडिंग जनरल पाल लाकेमेरा समेत अन्य अमेरिकी और दक्षिण कोरियाई अधिकारियों ने उनका स्वागत किया था। आपको बता दें कि जो बाइडन गुरुवार (स्थानीय समय) दोपहर दक्षिण कोरिया और जापान की यात्रा पर रवाना हुए थे।

राष्ट्रपति बाइडन एशिया यात्रा का लक्ष्य

राष्ट्रपति बाइडन इस यात्रा का लक्ष्य दोनों देशों के नेताओं के साथ संबंधों को मजबूत करना है। साथ ही इस यात्रा का मकसद चीन को संदेश देना भी है कि यूक्रेन पर रूस के हमले के मद्देनजर चीन को प्रशांत क्षेत्र में अपनी गतिविधियों को विराम देना चाहिए। बाइडन प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी ने इस यात्रा की जानकारी देते हुए, कहा कि अमेरिका की कोशिश है कि उत्तर कोरिया के साथ कूटनीति के जरिए और मजबूत रिश्ता बेहतर बनाया जा सके।

आपको बता दें कि इस वक्त उत्तर कोरिया गंभीर कोरोना महामारी से गुजर रहा है। उत्तर कोरिया के पास प्रयाप्त संसाधन की कमी है जिससे किम जोंग की सरकार उत्तर कोरिया के लोगों को स्वास्थय सुरक्षा मोहैया करा सके।

Edited By: Ashisha Rajput