टोक्यो (एजेंसी)। जापान में शरणार्थियों की संख्या साल-दर-साल बढ़ रही है। पिछले साल यहां शरणार्थी आवेदकों की संख्या पहले के कुछ सालों में सबसे ज्यादा रिकॉर्ड की गई। जापान मंत्रालय के अनुसार, पिछले कुछ सालों से 80 फीसदी की बढ़ोत्तरी के साथ 2017 में 19,628 शरणार्थियों ने आवेदन किया है। जानकारी के मुताबिक, सरकार ने केवल उन शरणार्थियों को फोन किया जिन्होंने जापान सरकार में रोजगार के लिए आवेदन किये थे।

नए आंकड़ों के मुताबिक, 2016 में जहां शरणार्थियों की संख्या 10,901 थी। 2017 में 8,727 की वृद्धि के साथ ये संख्या बढ़कर 19,628 हो गई है। रिकॉर्ड के मुताबिक, 2016 में पहली बार शरणार्थी आवेदकों की संख्या ने 10,000 का आंकड़ा पार कर लिया था।

जापान के अप्रवासी ब्यूरो के टेसुरो इसोबे ने कहा, शरणार्थियों के बीच ये सूचना फैला दी गई है कि वे विदेशी आवेदन फॉर्म भर कर यहां छह महीनों के लिए काम कर सकते हैं, हालांकि उन्हें मंत्रालय के फैसले का इंतजार है कि उन्हें शरणार्थी नाम दिया जाएगा या नहीं।

जानकारी के मुताबिक, पिछले साल कुल शरणार्थी आवेदक 82 देशों से थे। उनमें से मात्र 20 नागरिक ही मिस्र, सीरिया और अफगानिस्तान से थे जिन्हें शरणार्थी का स्टेटस दिया गया। बाकी अन्य श्रीलंका, इंडोनेशिया, नेपाल, म्यांमार, कंबोडिया, भारत और पाकिस्तान और अन्य देशों से आए थे। इनमें से जापान ने 45 लोगों को जापान में रहने की इजाजत दे दी। इनमें सीरिया, म्यांमार, और इराक के नागिरक थे जो राजनीतिक कारणों से स्वदेश लौटने में सक्षम नहीं थे।

हालांकि मंत्रालय ने 9,730 आवेदन को अस्वीकृत भी कर दिए। फिलिपींस से 4,854 जबकि वियतनाम से 3,116 शरणार्थियों ने आवेदन किया था। बताया जाता है कि, शरणार्थियों के आवेदन अस्वीकार करने पर कड़ी आलोचना के शिकार हो चुके जापान ने हालांकि आधिकारिक रूप से अब तक अप्रवासी नीति नहीं अपनाई है। लेकिन कई विदेशी नागरिक यहां टेक्निकल इंटर्न ट्रेनिंग प्रोग्राम के तहत जापान में काम कर रहे हैं। वर्तमान में यहां 230,000 लोग इस प्रोग्राम के तहत काम कर रहे हैं।

 

By Srishti Verma