ब्रुनेइ्र (एजेंसी)। परमाणु हथियारों के प्रति उत्‍तर कोरिया की मानसिकता में बदलाव से इंकार करते हुए जापानी विदेश मंत्री तारो कोनो ने चेतावनी दी है और कहा है कि वह उत्‍तर कोरिया के ‘स्‍माइल डिप्‍लोमैसी’ के झांसे में नहीं आएगा।

दक्षिण कोरियाई राष्‍ट्रपति मून जे-इन के उत्‍तर कोरियाई नेता किम जोंग उन की बहन से मुलाकात के एक दिन बाद कोनो ने कहा, ‘ स्‍माइल डिप्‍लोमेसी के झांसे में आए बगैर कोरियाई प्रायद्वीप के परमाणु निरस्‍त्रीकरण को लेकर जापान अमेरिका व दक्षिण कोरिया के साथ सहयोग करेगा।

कोनो ने कहा, ‘उत्‍तर कोरिया ने प्‍योंगचांग विंटर ओलंपिक्‍स की शुरुआत के पूर्व संध्‍या पर सैन्‍य परेड आयोजित किया जिसमें इसने मिसाइलों का प्रदर्शन किया। परमाणु हथियारों व मिसाइलों को लेकर इसकी मनोदशा में बदलाव नहीं है।‘

मून के साथ उत्‍तर कोरिया की उच्‍च स्‍तरीय प्रतिनिधिमंडल की बैठक के दौरान किम यो जोंग ने अपने भाई की ओर से एक पत्र दिया और राट्रपति को उत्‍तर कोरिया आने का निमंत्रण दिया है। बता दें कि कोनो का ब्रुनेई दौरे से पिछले पांच सालों का रिकार्ड टूटा है।

By Monika Minal