पालू, एएफपी। भूकंप और सुनामी की मार झेल रहे इंडोनेशिया के सुलावेसी में सामूहिक कब्र खोदी जा रही है। इसमें करीब एक हजार से अधिक शवों दफनाने की तैयारी है। अधिकारियों ने अंतरराष्ट्रीय सहयोग मांगा है। आपदा के चार दिन बाद भी दूरदराज के कई इलाकों में संपर्क नहीं हो पाया है। अभी भी राहत एवं बचाव कार्य जारी है।

ध्वस्त इमारतों के मलबे से पीड़ितों को निकाला जा रहा है। राष्ट्रपति जोको विडोडो ने दर्जनों अंतरराष्ट्रीय सहायता एजेंसियों तथा गैर सरकारी संगठनों के लिए दरवाजे खोल दिए हैं। वह जीवनरक्षक सहायता के लिए पहले से तैयार थीं। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, भूकंप और सुनामी से मरने वालों की संख्या 832 से अधिक है।

पालू के पहाड़ी इलाके पोबोया में स्वयंसेवकों ने मृतकों को दफनाने के लिए 100 मीटर लंबी कब्र खोदी जा रही है।मृतकों को दफनाने की तैयारी के निर्देश दिए गए हैं। वरिष्ठ सरकारी अधिकारी टॉम लेमबोंग ने ट्विटर पर बचावकर्ताओं से कहा है कि वह उनसे सीधे संपर्क करें। उन्होंने लिखा कि कल रात राष्ट्रपति जोकोवी ने अंतरराष्ट्रीय मदद स्वीकार करने के लिए हमें निर्देश दिया है, ताकि राहत तत्काल प्राप्त हो सके।

प्राकृतिक आपदा के बाद खराब होते शवों के कारण बीमारियों के फैलाव को रोकने के लिए अधिकारी संघर्ष कर रहे हैं। इसके साथ ही यहां 14 दिन का आपातकाल घोषित किया गया है। पालू के एक होटल के मलबे में 60 लोगों के दबे होने की आशंका है। पालू में एक व्यक्ति ने बताया, 'हमें कोई सहायता नहीं मिल रही है, हम भूखे हैं। हमारे पास दुकानें लूटने के अलावा कोई विकल्प नहीं है क्योंकि हमें भोजन चाहिए।'

Posted By: Arti Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस