बीजिंग, एपी। दुनिया में कोरोना वायरस फैलाने के आरोपों का सामना कर रहा चीन विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के साथ मिलकर इस घातक वायरस की उत्पत्ति की खोज करने की बात कर रहा है। इस देश के विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि चीन और डब्ल्यूएचओ वायरस की उत्पत्ति का सुराग लगाने की योजनाओं पर चर्चा कर रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र की इस स्वास्थ्य एजेंसी के दो विशेषज्ञों का दल चीन का दौरा भी कर चुका है। वे कोरोना की उत्पत्ति का पता लगाने गए थे। उनका दो हफ्तों का दौरा गत रविवार को खत्म हो गया। मालूम हो कि अमेरिका समेत दुनिया के तमाम मुल्‍क कोरोना संक्रमण को दुनियाभर में फैलने देने को लेकर चीन पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते रहे हैं। 

पशुओं से वायरस की उत्पत्ति होने की संभावनाओं को भी परखा

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने पत्रकारों को बताया कि विशेषज्ञों ने वायरस का पता लगाने की दिशा में वैज्ञानिक शोध के लिए प्रारंभिक विचार-विमर्श किया है। दोनों पक्षों ने पशुओं से वायरस की उत्पत्ति होने की संभावनाओं को भी परखा है। बता दें कि चीन के वुहान शहर में गत दिसंबर में कोरोना संक्रमण का पहला मामला सामने आया था। यह संदेह जताया गया है कि वुहान की एक लैब से ही यह वायरस लीक हुआ। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तक यह दावा कर चुके हैं। 

ट्रंप ने महामारी के लिए चीन और डब्ल्यूएचओ को कठघरे में खड़ा किया 

ट्रंप महामारी के लिए चीन को जिम्मेदार ठहराने के साथ ही डब्ल्यूएचओ को भी कठघरे में खड़ा कर चुके हैं। उन्होंने कहा था कि डब्ल्यूएचओ चीन का पक्ष लेता है। यही नहीं अमेरिका ने कोरोना संकट पर डब्ल्यूएचओ की भूमिका पर भी सवाल उठाए थे। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि डब्ल्यूएचओ बहुत जरूरी सुधार करने में विफल रहा है।अमेरिका ने कहा था कि डब्ल्यूएचओ ने विश्व को गुमराह किया, जिससे दुनिया भर में लाखों लोगों की मौत हुई। डब्ल्यूएचओ पर ट्रंप प्रशासन की नाराजगी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसने औपचारिक रूप से डब्ल्यूएचओ से सभी संबंध तोड़ लिए हैं। 

एपी का सनसनीखेज खुलासा 

बीते दिनों समाचार एजेंसी एपी ने एक रिपोर्ट में कोरोना संक्रमण में चीन की भूमिका को लेकर सनसनीखेज खुलासे किए थे। एजेंसी ने दस्‍तावेजों के हवाले से दावा किया था कि चीन ने कोरोना के बारे में जानकारी देने में काफी देरी की। चीनी अधिकारियों ने कोरोना के जीनोम के बारे में तब बताया जब जब एक हफ्ते पहले ही दुनिया के कई देश अपनी-अपनी प्रयोगशालाओं में इस जानलेवा वायरस की आनुवंशिकी का खुलासा कर चुके थे।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस