बीजिंग, एजेंसी। चीन के पूर्वी तट पर टाइफून लीकिमा से मरने वालों की संख्‍या बढ़कर 49 हो गई है। 21 लोग अभी भी लापता हैं। चीन के तटवर्ती इलाकों को पूरी तरह से खाली करा लिया गया हैं। टाइफून की भयावहता को देखते हुए दस लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है। इस प्राकृतिक आपाद में कम से कम 26 बिलियन युआन (3.7 बिलियन अमेरिकी डालर) का आर्थिक नुकसान हुआ है। 
चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्‍हुआ ने बताया है कि शनिवार को झिंजियांग प्रांत में हुए भूस्‍खलन के साथ‍ि यहां 190 किलोमीटर की प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं। तटों के किनारे ऊंची-ऊंची लहरें कहर बरपा रही हैं। एजेंसी के मुताबिक यह टाइफून उत्‍तर दिशा की ओर बढ़ रहा है। चीन के कई तटीय प्रांतों झिंजियांग, फुजियान, जिआंग्‍सु और शंघाई  में इसका सर्वाधिक असर देखने को मिला है। 

दस लाख से अधिक लोग कई शिविरों में अब भी शरण लिए हुए हैं। 35 हजार लोग बेघर हो गए हैं। उनके आवास या क्षतिग्रस्‍त हो गए है या फ‍िर बाढ़ में उनका अस्तित्‍व ही समाप्‍त हो गया है। लीकिमा के चलते तटीय इलाकों में भूस्‍खलन की घटनाएं हुई हैं। पूरे इलाके में मूसलाधार बारिश के साथ तेज हवाएं चलने से तटीय इलाकों में हजारों पड़ों जड़ से उखड़ गए हैं। वर्ष 1952 के बाद चीन में सर्वाधिक वर्षा दर्ज की गई है।
हालांकि, चीन सरकार ने अलर्ट जारी होते ही प्रभावित इलाके का खाली करा लिया था। राज्‍य में ट्रेन और हवाई यात्राएं और नौका सेवाओं को रद कर दिया गया था। टाइफून से प्रभावित प्रांतों में पर्यटकों के लिए अलर्ट जारी किया गया है। 

 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Ramesh Mishra