बीजिंग/वाशिंगटन, एजेंस‍ियां। दुनियाभर में कहर बरपा रहे कोरोना वायरस से यूरोप में हाहाकार मचा है। दुनियाभर में इस जानलेवा वायरस से 6,64,000 से ज्‍यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं जबकि 30,751 लोगों की मौत हो चुकी है। अकेले स्‍पेन में ही बीते 24 घंटे में रिकॉर्ड 838 लोगों की कोरोना वायरस से मौत हो गई। इटली में हालात तो और भी ज्‍यादा खराब हो गए हैं। इटली में कल यानी शनिवार को एक ही दिन में 889 लोगों की मौत कोरोना वायरस से हो गई थी। इटली में मौतों का आंकड़ा 10,000 को पार कर गया है। वहीं अमेरिका में संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा 2000 को पार कर गया है। जानें दुनिया के बाकी देशों का हाल...  

यूरोपीय यूनियन से मांगी मदद 

कोरोना वायरस महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित स्पेन और इटली ने यूरोपीय यूनियन (ईयू) से मदद मांगी है। इटली के प्रधानमंत्री ग्यूसेप कोंते ने शनिवार देर शाम कहा कि यूरोप को शेष दुनिया को यह बताना होगा कि वह इस खराब समय का मुकाबला करने में सक्षम है। स्पेन के प्रधानमंत्री पेड्रो सांचेज ने भी यूरोपीय यूनियन के 27 देशों से मदद का आह्वान किया है। बता दें कि स्पेन, इटली, फ्रांस सहित ईयू के छह अन्य देशों ने ईयू से कोरोना बांड जारी करने को कहा है। यह भी एक तरह का कर्ज होगा, जिसे बाजार में बेचकर महामारी से लड़ रहे देश पैसा पा सकेंगे। हालांकि इन देशों के इस विचार से जर्मन और नीदरलैंड जैसे देश सहमत नहीं हैं। 

स्‍पेन में संक्रमितों की संख्‍या में भारी उछाल 

स्पेन में रविवार को बीते 24 घंटों में रिकॉर्ड 838 लोगों की संक्रमण से मौत हो गई। इसके साथ ही स्‍पेन में कोरोना से मरने वालों की संख्‍या बढ़कर 6,528 हो गई है। स्‍पेन के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि मुल्‍क में अब तक 78,797 लोगों के कोरोना से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। यही नहीं देश में बीते 24 घंटे के भीतर संक्रमितों की संख्या में 9.1 फीसद की भारी बढ़ोतरी भी दर्ज हुई है। कोरोना से इटली के बाद स्पेन दूसरा मुल्‍क है जहां सबसे ज्‍यादा मौतें हुई हैं। उधर, महामारी से निपटने में जरूरी सामानों की कमी भी आड़े आ रही है। मिलान, मैड्रिड और मिशिगन जैसी जगहों पर डॉक्टरों को वेंटीलेटर की कमी से जूझना पड़ रहा है।

कोरोना से स्पेन की राजकुमारी की मौत

स्पेन की राजकुमारी मारिया टेरेसा का कोरोना वायरस से शुक्रवार को निधन हो गया है। 86 साल की राजकुमारी मारिया स्पेन के राजा फिलिप छठे की चचेरी बहन थीं। उनके छोटे भाई राजकुमार सिक्टस एनरिक डे बोरबोन ने फेसबुक पर राजकुमारी के निधन की सूचना दी। बता दें कि स्पेन के राजा फिलिप छठे के कोरोना नेगेटिव आने के कुछ सप्ताह बाद राजकुमारी टेरेसा के निधन की सूचना आई है। 28 जुलाई 1933 को जन्मीं राजकुमारी मारिया की पढ़ाई फ्रांस में हुई थी और पेरिस के विश्वविद्यालय में समाजशास्त्र की प्रोफेसर बनीं। राजकुमारी अपने आजाद खयाल और सामाजिक कार्यो के लिए जानी जाती थीं। यही वजह थी कि उन्हें रेड प्रिंसेस के नाम से भी बुलाया जाता था। राजकुमारी का अंतिम संस्कार शुक्रवार को मैड्रिड में किया गया। इससे पहले ब्रिटेन के प्रिंस चा‌र्ल्स कोरोना से संक्रमित होने वाले पहले शाही परिवार के शख्स थे।

रूहानी बोले, लंबे चलेंगे ऐसे हालात 

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने रविवार को कहा कि महामारी से उपजे हालातों में हाल-फिलहाल कोई राहत नहीं मिलेगी। मौजूदा समय में जीवन जीने का जो तरीका है वह लंबा चलेगा। उधर, रविवार को ईरान में 123 और लोगों की मौत हो गई। वहां पर मरने वालों की संख्या बढ़कर 2,640 हो गई। संक्रमण के 2,901 नए मामले सामने आए हैं। इस तरह संक्रमित मामलों की संख्या 38,309 हो गई।

यूरोप में हाहाकार 

यूरोप में कोरोना वायरस के संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा 20,000 के पास पहुंच गया है। इसमें से आधी मौत इटली में हुई हैं। कोरोना से मौतों के मामले में स्पेन दूसरे नंबर पर है। रूस ने कहा है कि वह सोमवार को वह अपनी सीमाएं बंद कर देगा। फ्रांस में करीब 2,000 लोगों की जान कोरोना संक्रमण से हो चुकी है। फ्रांस के प्रधानमंत्री एडवर्ड फिलिप की मानें तो अप्रैल के शुरुआती दो हफ्ते ज्यादा मुश्किल रहने वाले हैं। ब्रिटेन में वायरस से मरने वालों की संख्या 1,000 के पार चली गई है। वहीं ईरान में 139 और लोग संक्रमण से मारे गए हैं। 

ऑस्ट्रेलिया बोला, संक्रमण को रोकना है तो घर पर रहें

ऑस्ट्रेलिया ने रविवार को कहा कि महामारी के संक्रमण को रोकने के लिए देशवासियों को स्वयं को आइसोलेट करना होगा। इसके साथ ही पूरे देश में दो लोगों के एक साथ खड़ा होने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। चीफ मेडिकल आफिसर ब्रेंडन मर्फी ने कहा, 'लोग तब तक घरों के अंदर रहें जब तक बाहर निकलना बहुत जरूरी नहीं हो। 70 वर्ष से अधिक लोगों को तो स्वयं को तुरंत आइसोलेट कर लेना चाहिए।' प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने कहा कि यह प्रांतों पर निर्भर करता है कि वह आइसोलेशन के नियमों को कैसे लागू करते हैं। छह महीने तक किराए के मकानों में रह रहे लोगों को किराया नहीं देने की छूट भी प्रदान की गई है। ऑस्ट्रेलिया में 3,978 संक्रमण के मामले आ चुके हैं।

कोरोना का कहर 

- मिस्र ने अपने समुद्र तटों को बंद कर दिया है।

- पोलैंड 10 मई को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव को टालने पर विचार कर रहा है।

- रूसी प्रधानमंत्री मिखाइल मिशुस्टिन ने सीमाओं को बंद करने का आदेश दिया है।

- वियतनाम ने घरेलू उड़ानों की संख्या में कटौती का फैसला किया है।

- ब्रिटेन में 108 वर्षीय महिला हिल्डा चर्चिल की कोरोना से मौत हो गई।

- श्रीलंका में शनिवार को कोरोना संक्रमण से पहली मौत हुई।

- न्यूजीलैंड में रविवार को कोरोना से पहली मौत रिकॉर्ड की गई।

- टोक्यो स्थित एक दिव्यांग केंद्र में 28 कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए हैं।

देश मौतें संक्रमित

इटली 10,023-92,472

स्पेन 6,528-78,797

चीन 3,300-81,439

ईरान 2,640-38,309

अमेरिका 2,231-1,23,828

फ्रांस 2,314-37,575

ब्रिटेन 1,235-19,522

कनाडाई पीएम की पत्नी हुईं ठीक

कोरोना वायरस से संक्रमित कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो की पत्नी सोफी ग्रेगोर अब पूरी तरह स्वस्थ हो गई हैं। गत 12 मार्च को चिकित्सकीय जांच में उन्हें कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। पीएम ट्रूडो और उनके तीन बच्चों का टेस्ट निगेटिव रहा था। एहतियात के तौर पर पीएम के परिवार के सभी सदस्य घर में ही अलग-अलग रह रहे हैं। पत्नी के स्वस्थ होने पर खुशी जताते हुए ट्रूडो ने लोगों की दुआओं पर अपना आभार जताया। कनाडा में कोरोना के अब तक पांच हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। इनमें 61 की मौत हो चुकी है, जबकि 445 मरीज ठीक भी हुए हैं। 

तीन दिन में अमेरिका में एक हजार से ज्यादा मौतें

अमेरिका में मृतकों की संख्या 2,231 हो गई है। तीन दिन पहले यह आंकड़ा एक हजार से कम था। एक चौथाई मौतें (517) अकेले न्यूयॉर्क में हुई हैं। संक्रमित लोगों की संख्या 1,23,828 हो गई है। डेट्रायट, न्यू आर्लियांस और शिकागो महामारी का नया केंद्र बनकर उभरे रहे हैं। हालत यह है कि अमेरिका के ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोग भी सुरक्षित नहीं हैं। ट्रंप ने न्यूयॉर्क, न्यूजर्सी और कनेक्टिकट के कुछ हिस्सों में दो सप्ताह तक लॉकडाउन की बात पर विचार करने की बात कही है। हालांकि सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन ने न्यूयॉर्क के लोगों से गैर जरूरी कामों से घरों से नहीं निकलने की अपील की है। उधर, ट्रंप के न्यूयॉर्क को लॉकडाउन करने वाले बयान पर वहां के गवर्नर ने नाखुशी जताई है। उन्होंने कहा कि वह इससे सहमत नहीं हैं और ना ही इस पर उनकी कोई राय ली गई है।

वुहान में सामान्‍य हो रहे हालात 

कोरोना वायरस के चलते दुनिया की तकरीबन एक तिहाई आबादी लॉकडाउन का सामना कर रही है। दुनियाभर में लाखों नौकरियों पर संकट छा गया है। वहीं दूसरी ओर स्वास्थ्य क्षेत्र पर अत्यधिक बोझ बढ़ गया है। कोरोना के चलते बड़े बड़े देशों की अर्थव्यवस्था हिल गई है। कुछ देशों के अधिकारियों का मानना है कि यदि ऐसे ही चलता रहा तो आगे और भयावह तस्वीर सामने आ सकती है। हालांकि चीन जहां वायरस सबसे पहले उभरा था वहां हालात कुछ सामान्य हुए हैं। दो महीने तक लंबे लॉकडाउन के बाद अब वुहान शहर को भी आंशिक रूप से आवाजाही के लिए खोला जा रहा है। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस