बीजिंग, न्यूयार्क टाइम्स। दक्षिण-पूर्व चीन में कोरोना का डेल्टा वैरिएंट तेजी से पांव पसार रहा है। चीनी डाक्टरों ने बताया कि कोरोना की चपेट में आने वाले पीड़ितों की तेजी से हालत बिगड़ रही है। देश में प्रारंभिक दौर की महामारी में जिस तरह के लक्षण देखने को मिले थे, उनके मुकाबले मौजूदा दौर के लक्षण अलग और ज्यादा खतरनाक हैं।

चीन के सरकारी टेलीविजन ने डाक्टरों के हवाले से बताया कि बिना लक्षण वाले मरीज भी बुखार से पीड़ित पाए जा रहे हैं। जबकि पहले की अपेक्षा इस बार मरीजों के शरीर में वायरस लोड उच्च स्तर पर पाया जा रहा है और गिरावट धीमी गति से हो रही है। ग्वांगझोऊ शहर की सन-यात-सेन यूनिवर्सिटी में क्रिटिकल केयर मेडिसिन के निदेशक गुआन शियांगडोंग ने कहा, 'कोरोना की चपेट में आने के बाद महज तीन-चार दिनों में 12 फीसद मरीजों की हालत गंभीर हो गई।' दक्षिण-पूर्व चीन में डेल्टा वैरिएंट तेजी से फैल रहा है। ग्वांगझोऊ संक्रमण का केंद्र बन गया है। यहां रोकथाम के लिए कई सख्त पाबंदियां लगाई गई हैं। इस शहर में पीड़ितों के संपर्क या उनके आसपास रहने वाले हजारों लोगों को क्वारंटाइन किया गया है।

बता दें कि चीन के वुहान शहर में दिसंबर, 2019 में कोरोना के पहले मामले की पुष्टि हुई थी। यहीं से पूरे चीन और फिर दुनियाभर में यह वायरस फैल गया। अमेरिका समेत कई देशों को यह संदेह है कि वुहान की लैब से यह वायरस लीक हुआ है। इसके स्रोत का पता लगाने के लिए व्यापक जांच की मांग की जा रही है।