नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। चीन संचार प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में नित नई-नई खोजें करता रहता है। वो अपने यहां के नेटवर्क को कमजोर नहीं होने देना चाहता है इसको ध्यान में रखते हुए सरकार की ओर से नए-नए उपग्रह भेजे जाते रहते हैं। इसी कड़ी में आगे बढ़ते हुए चीन की ओर से नए नया उपग्रह लॉन्च किया गया है। इससे पहले चीन इस श्रृंखला में 11 उपग्रह लॉन्च कर चुका है। मार्च-3 की श्रृंखला में ए, बी, सी, डी व इ तक उपग्रह लॉन्च किए जा चुके हैं।

सैटेलाइट लॉन्च सेंटर से किया गया लॉन्च 

दक्षिण-पश्चिम चीन के सिचुआन प्रांत को झीचांग के जीचांग सैटेलाइट लॉन्च सेंटर में लॉन्ग मार्च -3 बी वाहक रॉकेट द्वारा एक नई संचार प्रौद्योगिकी प्रयोग उपग्रह लॉन्च किया गया है। उपग्रह का उपयोग मुख्य रूप से मल्टी-बैंड और हाई-स्पीड के लिए किया जाएगा।

Long March-3B carrier rocket 

चीन की ओर से अब तक लॉन्ग मार्च 1 से लेकर 11 तक लॉन्ग मार्च रॉकेट लॉन्च किया जा चुका है। लॉन्ग मार्च 10 को इसमें शामिल नहीं किया गया है। लॉन्ग मार्च रॉकेट (Long March Rocket or Changzheng Rocket) चीन की सरकार के द्वारा संचालित एक्सपेंडेबल लॉन्च सिस्टम का एक रॉकेट है। इसका विकास और डिजाइन चीन अकादमी प्रक्षेपण यान प्रौद्योगिकी में किया गया। रॉकेट का नाम चीनी कम्युनिस्ट इतिहास के लॉन्ग मार्च की घटना के बाद रखा गया है।

नई संचार प्रौद्योगिका उपग्रह किया लॉन्च 

दरअसल चीन संचार क्रांति को बढ़ावा देना चाहता है, वो अपने यहां के कम्युनिकेशन नेटवर्क को और भी अधिक मजबूती देना चाहता है। इसी को ध्यान में रखते हुए चीन की ओर से नए-नए उपग्रह सौर मंडल में भेजे जाते रहते है। इसी कड़ी में गुरुवार को ये नया उपग्रह लॉन्च किया गया। चीन ने देर रात दक्षिण-पश्चिम चीन के सिचुआन प्रांत में झीचांग सैटेलाइट लॉन्च सेंटर से इस नए संचार प्रौद्योगिकी उपग्रह को लॉन्च किया।

मल्टी बैंड और हाइ स्पीड के लिए होगा इस्तेमाल 

चीन की ओर से जो उपग्रह लॉन्च किया गया है उसका इस्तेमाल मल्टी बैंड और हाइ स्पीड इंटरनेट सुविधा के लिए किया जाएगा। चीन इंटरनेट की स्पीड बढ़ाने की दिशा में लगातार काम कर रहा है। इसी कड़ी में ये उपग्रह लॉन्च किया गया है।

उपग्रह और वाहक रॉकेट को क्रमश 

चाइना एयरोस्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी कॉरपोरेशन के तहत चाइना एकेडमी ऑफ स्पेस टेक्नोलॉजी और चाइना एकेडमी ऑफ लॉन्च व्हीकल टेक्नोलॉजी द्वारा विकसित किया गया था।

रॉकेट श्रृंखला का 315 वां मिशन 

चीन की ओर से गुरुवार का प्रक्षेपण लॉन्ग मार्च रॉकेट श्रृंखला का 315 वां मिशन था। इससे पहले 314 मिशन कम्प्लीट किए जा चुके हैं। चीन की ओर से भेजे गए इस तरह के कई उपग्रह का समय खत्म हो चुका है, अब वो निष्क्रिय हो चुके हैं। उनकी जगह पर नए उपग्रह भेजे गए हैं। 

Posted By: Vinay Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप